अमेरिका में चीन के जासूस को मिली 14 महीने की सजा, कबूली जासूसी की बात ….

0
0

सिंगापुर के एक व्यक्ति को अमेरिकी अदालत ने चीन को बहुमूल्य सैन्य और राजनीतिक सूचना देने के
मामले में 14 महीने कैद की सजा सुनाई है। अदालत ने माना कि उसने यह सूचना देकर अमेरिकियों
को धोखा दिया। जून वेई येओ ने चीनी खुफिया एजेंटे के निर्देशन में काम करने की बात को कबूल
कर लिया है।

ट्रंप प्रशासन का आरोप है कि चीन आर्थिक बढ़त के लिए अमेरिका के प्रमुख अनुसंधान सहित गोपनीय
जानकारियों की चोरी करने का प्रयास कर रहा है। अभियोजक ने आरोप लगाया कि येओ, जिसे डिक्सन
येओ के नाम से जाना जाता है, न केवल लालच से प्रेरित होकर काम कर रहा था बल्कि उसकी इच्छा
चीन की कम्युनिस्ट सरकार की तरह वैश्विक स्तर पर अमेरिका की स्थिति कमजोर करने की थी।

न्याय विभाग के मुताबिक वह कई साल से अमेरिकी सैन्य विमान कार्यक्रम, अमेरिकी सैनिकों की
अफगानिस्तान से वापसी और कैबिनेट सदस्य की जानकारी साझा कर रहा था। न्याय विभाग का
मानना है कि येओ को गोपनीय दस्तावेज हासिल करने से पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया।
अभियोजक का कहना था कि गिरफ्तारी से पहले येओ कुछ सूचना इकट्ठा करने की तैयारी
कर रहा था।

अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट जज तान्या चुटकन ने वाशिंगटन में डिजिटल माध्यम से सुनवाई के दौरान 14
महीने की सजा सुनाई। हालांकि, उन्होंने अमेरिका की जेल तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस महामारीको
ध्यान में रखते हुए अभियोजकों द्वारा सिफारिश की गई सजा को दो महीने कम कर दिया। सजा पूरी
होने के बाद उसे निर्वासित कर दिया जाएगा।

येओ ने न्यायाधीश से कहा कि मैंने जो भी किया है, उसके लिए पूरी जिम्मेदारी लेता हूं। मैं चीन के
प्रति सहानुभूति रखता हूं, लेकिन किसी को नुकसान पहुंचाना मेरा उद्देश्य नहीं था। अभियोजन पक्ष
का कहना है कि 2015 की बीजिंग यत्रों के दौरान येओ चीन का खुफिया एजेंसी में शामिल हुआ
था। न्याय विभाग ने आरोप लगाया कि उसने ऑपरेटर्स के निर्देशन में काम करते हुए एक फर्जी
कंसल्टिंग कंपनी को नियुक्त किया औऱ प्रमुख अमेरिकी कंपनियों के साथ अपना काम साक्षा किया।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here