जानें क्यों लिया गया फैसला ,जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल रुका……l.

0
1
करोना

दुनियाभर की दवा निर्माता कंपनियां कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने के लिए बड़े पैमाने पर परीक्षण
कर रही हैं, जिसमें हजारों वॉलंटियर्स हिस्सा ले रहे हैं। इस बीच वैक्सीन को लेकर एक बुरी खबर सामने
आई है। कोरोना वैक्सीन पर काम कर रही अमेरिकी कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन ने इसके ट्रायल पर
फिलहाल रोक लगा दी है। कंपनी ने बताया है कि ट्रायल के दौरान एक वॉलंटियर के बीमार होने के
बाद इसपर रोक लगाई गई है।

कंपनी ने बयान में कहा है कि हमने अपने कोरोना वायरस वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल के लिए
वॉलंटियर्स को दी जाने वाली खुराक फिलहाल के लिए रोक दी है। इसमें फेज 3 का ट्रायल भी
शामिल है। शोध के दौरान एक प्रतिभागी के बीमार होने की वजह से यह कदम उठाया गया है।
हालांकि, कंपनी ने वॉलंटियर की गोपनीयता का हवाला देते हुए बीमारी के बारे में अधिक जानकारी
देने से इनकार कर दिया।

इस महीने की शुरुआत में जॉनसन एंड जॉनसन अमेरिका में वैक्सीन बनाने वालों की शॉर्ट लिस्ट
में शामिल हुआ है। जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन अमेरिका में चौथी ऐसी वैक्सीन है, जो क्लिनिकल
ट्रायल के अंतिम चरण में है। ट्रायल में हिस्सा लेने वाले किसी भी वॉलंटियर की किसी भी कारण से
तबीयत खराब हो जाने की स्थिति में किसी स्वतंत्र एजेंसी से जांच हो जाने तक परीक्षण रोक दिया
जाता है, ताकि प्रक्रिया पर भरोसा बना रहे।

जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन के ट्रायल पर रोक लगने की खबर ऐसे वक्त में आई है, जब इससे
पहले ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्‍सीन एस्ट्राजेनेका पर रोक लगा दी गई थी। ट्रायल में हिस्सा
ले रहे एक ब्रिटिश वॉलंटियर के बीमार पड़ने के कारण यह कदम उठाया गया था। हलांकि, इसका
ट्रायल फिर से शुरू हो चुका है। वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल में अमेरिका, ब्रिटेन, ब्राजील एवं
दक्षिण अफ्रीका से करीब 30,000 वॉलंटियर जुड़े हैं।