डायबिटीज़ के मरीज़ सुखद यात्रा के लिए इन 5 टिप्स का रखें ध्यान …

0
4

ट्रैवलिंग के नाम से जितनी एक्साइटमेंट होती है उतना ही टेंशन 8-9 या इससे ज्यादा घंटे बैठकर सफर करना और वो भी जब आप मरीज़ हों। खाने-पीने से लेकर दवाओं हर एक चीज़ की टाइमिंग और डोज़ का ध्यान रखना पड़ता है। जरा सी लापरवाही पूरे सफर का मज़ा किरकिरा कर सकती है। तो अगर आप डायबिटीज़ के मरीज़ हैं तो सफर के दौरान कैसे रहें कम्फर्टेबल, जानेंगे इसके बारे में।

प्लानिंग करके चलें

ट्रिप कहीं का भी हो उसकी प्लानिंग अच्छी तरह से होनी चाहिए क्योंकि इसमें ऐसी कई सारी चीज़ें ऐसी होती है जिनके लिए खुद को पहले से तैयार करना होता है। जिस भी जगह जा रहे हैं वहां के हिसाब से अपनी पैकिंग करें। कपड़ों से लेकर खाने-पीने तक की पूरी तैयारी हो खासतौर से अगर आप या आपके साथ कोई डायबिटीज़ का मरीज़ हो। इससे सफर के दौरान शुगर लेवल के बढ़ने-घटने पर कोई टेंशन नहीं होती।

डॉक्टर से राय-मशविरा लें ले

शुभ यात्रा के लिए ट्रिप से कम से कम 2 हफ्ते पहले डॉक्टर से मिलकर जाएं। दवाईयों से लेकर खाने-पीने हर चीज़ का एक टाइम बना लें इससे किसी तरह की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा। इसके साथ ही अपनी दवाओं के नाम भी कहीं लिखकर या फोन में सेव कर लें। इसके अलावा डॉक्टर से आप डायबिटीज़ के मरीज़ हैं ऐसा लिखा हुआ नोट या लैटर जरूर रखें इससे फ्लाइट में दवाओं को कैरी करना आसान रहेगा।