IPL 2020 में ये टीम है सट्टेबाजों की पहली पसंद

0
0
IPL 2020 में ये टीम है सट्टेबाजों की पहली पसंद

IPL का 13वां सीजन शनिवार 19 सितंबर से शुरू हो रहा है। इसी के साथ सट्टेबाजी का बाजार भी शुरू होने की पूरी संभावना है। शहर के आसपास मौजूद सट्टेबाजों की मानें तो मौजूदा विजेता मुंबई इंडियंस IPL 2020 में सट्टेबाजों की पहली पसंद है। यूएई में होने वाले आइपीएल 2020 के शुरू होने से कुछ दिन पहले ही गुरुग्राम पुलिस ने अपनी इंटेलिजेंस विंग, क्राइम ब्रांच यूनिट और सभी जिलों के स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) को सट्टेबाजों पर नजर रखने के लिए कह दिया है।

IPL 2020 से पहले मुंबई इंडियंस की पिछले प्रदर्शन को देखते हुए सट्टेबाज रोहित शर्मा को अपना पसंदीदा खिलाड़ी बता रहे हैं। आइपीएल के इस सीजन में किस टीम पर कैसा भाव लग रहा है, इस बात की जानकारी भी एक सट्टेबाज ने नाम न छापने की शर्त पर न्यूज एजेंसी को दी है। एक सट्टेबाज ने बताया, “आइपीएल में मुंबई इंडियंस की मौजूदा कीमत 4.90 रुपये है। उसके बाद सनराइजर्स हैदराबाद है, जिसकी कीमत 5.60 रुपये है। इसके बाद चेन्नई सुपर किंग्स पांच रुपये, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर को 6.20 रुपये, दिल्ली कैपिटल्स 6.40 रुपये, कोलकाता नाइट राइडर्स 7.80 रुपये, किंग्स इलेवन पंजाब 9.50 रुपये और राजस्थान रॉयल्स 10 रुपये के हिसाब से भाव मिल रहा है।”

सट्टेबाज ने बताया, “जिस टीम की कीमत सबसे कम होती है उसे काफी मजबूत माना जाता है। अगर कोई मुंबई इंडियंस पर 1000 रुपये लगाता है कि मुंबई जीतेगी और मुंबई की टीम जीत जाती है तो उसे 4,900 रुपये मिलेंगे। मैच रेट ऊपर-नीचे हो सकता है।” सट्टेबाजों को लिए आइपीएल काफी महत्व रखता है। हालांकि, भारत में सट्टा अवैध है। बावजूद इसके लोग सट्टेबाजी करते हैं।

सट्टेबाज ने बताया, “आइपीएल हमारे और हमारे क्लाइंट के लिए बड़ा टूर्नामेंट है
और इसका कैंसिल होने से काफी नुकसान होता। कई लोग इन मैचों के लिए पैसा
इकट्ठा करते हैं ताकि वो उधार चुका
सकें और यह पैसा व्यवसाय में लगा सकें।” बता दें कि मेट्रोपोलिटन सिटी और छोटे
शहर जैसे गुरुग्राम में सट्टेबाजी के बड़े गढ़ बन चुके हैं। आइपीएल में करोड़ों रुपये का
सट्टा लगता है, लेकिन पुलिस इन लोगों पर लगाम
लगाए रखने के लिए काफी सख्त है।

आधिकारिक रिपोर्ट के मुताबिक, “गैम्बलिंग एक्ट में कुल 148 मामले दर्ज हुए हैं और
अभी तक इस साल में कुल 235 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। पिछले साल,
446 मामले पंजीकृत हुए थे और 700 लोग गैम्बलिंग एक्ट के तहत गिरफ्तार हुए थे।
” गुरुग्राम पुलिस की डीसीपी (हेडक्वाटर्स) ने कहा कि पुलिस इस समय कोरोना वायरस में व्यस्त है,
लेकिन उनकी यूनिट गैरकानूनी नेटवर्क पर नजर बनाए हुए है। उन्होंने कहा,
“हमने अपनी पुलिस को गैरकानूनी काम करने वाले सिंडीकेट पर नजर रखने को कह दिया है।