आइए EVM के ‘दाग’ धोने वाले VVPAT को करीब से जानें : Lok sabha Election 2019

0
2

लोकसभा चुनावों (Loksabha Election 2019) की घोषणा हो चुकी है। इसी के साथ यह भी घोषणा हो चुकी है कि

सात चरण के इस मतदान में हर सीट पर वीवीपैट (VVPAT) का इस्तेमाल होगा। यानि हर EVM के साथ एक वीवीपैट

मशीन भी लगाई जाएगी। इससे चुनाव प्रक्रिया के पूरी तरह से पारदर्शी होने की बात कही जा रही है।

हालांकि, चुनाव आयोग पहले ही कह चुका है कि EVM में किसी भी तरह की गड़बड़ी (हैक) नहीं की जा सकती है।

इसके बावजूद विपक्ष अक्सर अपनी हार का ठीकरा EVM पर ही फोड़ता है। चुनाव सुधारों की अपनी सतत प्रक्रिया के

तहत अब चुनाव आयोग ने हर EVM के साथ वीवीपैट के इस्तेमाल की बात कही है।

आइए जानें क्या होती है VVPAT मशीन, कैसे काम करती है और इसकी जरूरत क्यों पड़ी।

क्या होती है वीवीपैट मशीन?

वीवीपैट (VVPAT) यानि वोटर वेरिफिएबल पेपर ऑडिट ट्रेल इस बात की तस्दीक करेगा कि मतदाता ने जिस उम्मीदवार

को वोट किया है वह उसी के खाते में जाए। हालांकि, EVM चुनाव कराने का एक सुरक्षित माध्यम है तो इसमें भी आपका

वोट आपके पसंदीदा उम्मीदवार को ही जाता है। वीवीपैट एक और जरिया है, जिससे आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आपका

वोट सही जगह गया है।