आप भी कर सकते है बांस उद्योग का काम, सरकार से भी मिलेगी मदद

0
1
आप भी कर सकते है बांस उद्योग का काम, सरकार से भी मिलेगी मदद
आप भी कर सकते है बांस उद्योग का काम, सरकार से भी मिलेगी मदद

राष्ट्रीय बैंबू मिशन को तकनीकी सहायता देने के लिए बैंबू टेक्निकल सपोर्ट ग्रुप (BTSG) का भी गठन किया गया है।जानिए कुछ ऐसे ही कामों के बारे में…

बांस से जुड़े उत्पाद

खादी ग्रामोद्योग आयोग बांस की बोतल बनाकर बाजार में बेचती है। खादी ग्रामोद्योग आयोग खादी, शहद जैसे कुटिर उद्योगों के साथ अब बांस उद्योग का विस्तार कर रहा है। खादी ग्रामोद्योग आयोग लोगों को
बांस के सामान तैयार करने की ट्रेनिंग दे रहा है साथ ही काम शुरू करने के लिए लोन की व्यवस्था भी करा रहा है। इस बारे में ज्यादा जानकारी आप खादी ग्रामोद्योग आयोग की वेबसाइट
www.kvic.gov.in/kvicres/index.php से ले सकते हैं। मालूम हो कि बास की बोतल या अन्य सामान बनाने की ट्रेनिंग आप राष्ट्रीय बांस मिशन की वेबसाइट nbm.nic.in से भी हासिल
कर सकते हैं। यहां ऐसे कई संस्थानों के बारे में बताया गया है जो बांस से सामान बनाने की ट्रेनिंग देते हैं। इस लिंक nbm.nic.in/Hcssc.aspx से आप ज्यादा जानकारी ले सकते हैं।

बांस उद्योग के लिए कितना खर्च

बांस उद्योग में कई तरह के काम होते हैं जिसकी लागत अलग-अलग होती है। मध्य प्रदेश सरकार के अनुसार, अगर किसी को बांस के आभूषण बनाने की यूनिट शुरू करना हो तो उसे 15 लाख रुपये
की शुरुआती जरुरत पड़ेगी। इस बारे में अधिक जानकारी आप apps.mpforest.gov.in/MPSBM/ से ले सकते हैं।

इसके अलावा आप नेशनल बेंबू मिशन की वेबसाइट nbm.nic.in से भी जानकारी ले सकते हैं।

मोदी सरकार किसानों की आमदनी बढ़ाने और छोटे उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए लगातार काम कर रही है। केंद्र ने बांस के आयात पर सीमा शुल्क को 10 फीसद से बढ़ाकर 25 फीसद कर दिया है।