इन GPS डिवाइसों की मदद से फ़ोन पर देख सकते हैं लोकेशन

0
0
इन GPS डिवाइसों की मदद से फ़ोन पर देख सकते हैं लोकेशन

कुछ समय पहले कारों में बेसिक सेफ्टी फीचर्स दिए जाते थे लेकिन समय बीतने के साथ ही इन फीचर्स में बदलाव आया

है। आपको बता दें कि जैसे-जैसे कारें हाईटेक हो रही हैं, चोर भी उसी हिसाब से कार चोरी का तरीका बदल रहे हैं। कार

चोरी की घटनाओं में कुछ कमी जरूर आई है लेकिन आज भी लोगों को अपनी कार की सेफ्टी का डर सताता रहता है।

वायर्ड जीपीएस डिवाइस: जीपीएस यानी (ग्लोबल पोजीशनिंंग सिस्टम) एक ऐसा डिवाइस होता है जो लगातार अपनी

लोकेशन आप तक भेजता रहता है। वायर्ड जीपीएस डिवाइस का इस्तेमाल ज्यादातर लोग बड़े वाहनों में करते हैं। ये

डिवाइस वाहन की निचली तरफ फिट कर दिया जाता है। इसके बाद डिवाइस का कनेक्शन बैटरी से कर दिया जाता है।

ये डिवाइस आपके वाहन की बैटरी से पावर लेकर सैटेलाइट तक सिग्नल भेजता है जिसे आप अपने स्मार्टफोन पर रिसीव

कर सकते हैं। ये डिवाइस बेहद ही कारगर होता है और किसी भी वेदर कंडीशन में सिग्नल भेजना बंद नहीं करता है।

वायरलेस जीपीएस: वायरलेस जीपीएस बैटरी पावर्ड होता है जिसे आप अपनी कार में रख सकते हैं। ये डिवाइस वायर्ड

जीपीएस से कम क्षमता के होते हैं। इनका इस्तेमाल ज्यादातर छोटे वाहनों में किया जाता है। हालांकि इन्हें आपको समय-

समय पर चार्ज करना पड़ता है। इनकी खासियत ये है कि इन्हें फिक्स करने की जरूरत नहीं पड़ती है। मतलब ये है कि

आप जिस कार या बाइक में चाहें इस डिवाइस को कैरी कर सकते हैं।

अगर आपकी कार चोरी हो जाती है तो आप तुरंत ही अपने स्मार्टफोन में इसकी लोकेशन हासिल कर सकते हैं। ये

डिवाइस बेहद सटीक तरह से काम करते हैं। इनके इस्तेमाल से आप कम समय में ही अपने वाहन का पता लगा सकते हैं

और चोरी की घटनाओं से अपने वाहन को सुरक्षित बना सकते हैं।