उत्तर प्रदेश विधानमंडल बजट सत्र : विपक्ष का हंगामा, राज्यपाल के अभिभाषण के बाद पहले दिन की कार्यवाही स्थगित …..

0
0

उत्तर प्रदेश विधानमंडल के बजट सत्र में सीएम योगी आदित्यनाथ के विपक्ष से सहयोग के आग्रह का
कोई असर नहीं दिखा। विधानभवन प्रांगण में चौधरी चरण सिंह की प्रतिमा के सामने कांग्रेस तथा
समाजवादी पार्टी के नेताओं के प्रदर्शन के बाद राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान विरोध तेज हो गया।
बजट सत्र शुरू होते ही विधानसभा में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के भाषण के दौरान विपक्ष ने सीएए
-एनआरसी और कानून-व्यवस्था सहित विभिन्न मुद्दों पर जोरदार प्रदर्शन किया। 

विधानमंडल के बजट सत्र के पहले दिन दोनों सदनों  की संयुक्त बैठक के बाद विधान परिषद की
कार्यवाही शुरू हुई । सरकार की ओर से उत्तर प्रदेश माल एवं सेवा कर अधिनियम में संशोधन के लिए
अध्यादेश सदन की मेज पर रखा गया । समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने संशोधनों पर चर्चा कराने की मांग
की और इसे लेकर हंगामा किया। हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक के लिए स्थगित कर
दी गई ।

विधानसभा का बजट सत्र आज से शुरू होकर सात मार्च तक चलेगा। इस दौरान 18 फरवरी को दोपहर
12.20 पर उत्तर प्रदेश का बजट पेश किया जाएगा। यह मौजूदा वित्तीय वर्ष का बजट होगा। इस साल का
पहला सत्र होने के नाते इसकी शुरुआत राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के अभिभाषण से हुई।

राज्यपाल दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित कर रही थीं, इसी दौरान कांग्रेस व समाजवादी पार्टी के
नेताओं के साथ बहुजन समाज पार्टी के नेता भी प्रदर्शन करने लगे। यह सभी लागे प्ले कार्ड लेकर सरकार के
खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं। इससे पहले सदन व्यवस्थित तरीके से चलाने के लिए बुधवार को सर्वदलीय बैठक
में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विभिन्न दलों के नेताओं से सहयोग करने का आग्रह किया। विपक्ष की ओर से
जनता के मुद्दों की सुनवाई करने पर जोर दिया गया।

बजट पत्र का पहला दिन उम्मीद के मुताबिक हंगामेदार है। विधान भवन के प्रांगण के बाहर ही समाजवादी
पार्टी के साथ कांग्रेस के विधायक प्रदर्शन कर रहे हैं। यह सभी विधानसभा भवन में चौधरी चरण सिंह प्रतिमा
के सामने महंगाई, सीएए व एनआरसी तथा किसान उत्पीडऩ के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे। विधानमंडल
बजट सत्र का पहला ही दिन हंगामेदार हो गया है। विपक्ष यहां पर कानूून व्यवस्था, महंगाई के साथ किसानों
की समस्याओं व कानून व्यवस्था की बदहाली जैसे मुद्दों को लेकर योगी आदित्यनाथ सरकार की घेराबंदी कर
रहा है।