उत्तर भारत में भीषण उमस जारी, मौसम विभाग ने की ये भविष्यवाणी ..

0
1
rain falll

सितंबर का महीना आधा बीत चुका है, लेकिन लोगों को अब तक भीषण उमस से राहत नहीं मिली है।
उमस का सितम बदस्तूर जारी है। खास तौर पर उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में लोगों को जुलाई जैसी
उमस का सामना करना पड़ रहा है। इसे लेकर अब मौसम विभाग ने अहम भविष्यवाणी की है। पढ़ें- पूरी
रिपोर्ट…

मौसम विभाग के अनुसार उत्तर भारत में जिस तरह से उमस का दौर जारी है, उससे साफ है कि मानसून
पीरियड अभी खत्म होने वाला नहीं है। साथ ही मौसम विभाग ने भविष्यवाणी की है कि इस सप्ताह उत्तर
भारत में लोगों को और ज्यादा उमस झेलनी पड़ सकती है। न्यूज एजेंसी पीटीआई के अनुसार मौसम विभाग
ने अपनी ताजा रिपोर्ट में कहा है कि फिलहाल उत्तर भारत के लोगों को उमस से कोई राहत मिलने का
अनुमान नहीं है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के ताजा आंकड़ों से पता चलता है कि देश में अब तक सामान्य से
चार प्रतिशत ज्यादा बारिश हो चुकी है। मौसम विभाग के अनुसार सामान्य तौर पर एक सितंबर तक पश्चिमी
राजस्थान से मानसून अलविदा कह देता है। 15 सितंबर तक राजस्थान के ज्यादातर हिस्सों से मानसून की
विदाई हो चुकी होती है। 15 सितंबर तक मानसून, कच्छ गुजरात और पंजाब के भी ज्यादातर हिस्सों को
अलविदा कह देता है। इस बार पश्चिमी राजस्थान में भी अब तक मानसून टिका हुआ है।

राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र (National Weather Forecasting Centre) की प्रमुख के. सथि देवी
(K Sathi Devi) ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया है कि उत्तर-पश्चिमी मध्य प्रदेश में फिलहाल एक
लो प्रेशर (निम्न दबाव) का क्षेत्र बना हुआ है। इसकी वजह से वहां भारी बारिश होने की संभावना बनी
हुई है।

मौसम का वर्तमान मिजाज पूर्वी क्षेत्र से नमी को आकर्षित करने वाला है। इसकी वजह से उत्तर भारत के
मैदानी इलाकों के कई हिस्सों में भीषण उमस (high levels of humidity) दर्ज की गई है, जो सितंबर
के लिहाज से सामान्य बात नहीं है। तापमान के साथ कम दबाव क्षेत्र के कारण वातावरण में नमी उच्चतम
स्तर पर है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार आने वाले समय में उमस में और इजाफा हो सकता है।