एक ही जगह सैकड़ों AC यूजर्स बोले- आग उगलती दीवारें हमने बनाई, दोष प्रकृति को देते हैं …..

0
1

बीते दस दिनों से अधिकतम तापमान करीब 45 डिग्री से उपर बना हुआ है।

धूप ऐसी की त्‍वचा जला दे। रात को भी चैन नहीं।

मगर सवाल ये है कि आखिर इतनी गर्मी क्‍या स्‍वभाविक तौर पर बढ़ रही हैं या इसका कोई विशेष कारण है।

मौसम विशेषज्ञ इतनी गर्मी बढ़ने का एक कारण एसी और गाड़ी में प्रयोग होने वाली एसी को मान रहे हैं।

इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक फोटो में जिस तरह से दीवार पर एसी (एयर कंडीशनर) लगी हुई हैं,

उसे देख मौसम विशेषज्ञों की बात का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है।

वहीं जहां पर पेड़ ज्‍यादा होते हैं वहां का अधिकतम तापमान भी खुली जगह से करीब पांच से छह डिग्री कम होता है।

बढ़ते तापमान से शहरी क्षेत्र ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं, क्योंकि यहां बनी कंक्रीट की सड़कें और पक्के मकान दिन के

समय सूर्य के प्रकाश की गर्मी को सोखते हैं और फिर ताप को छोडऩे लगते हैं, जिससे तापमान बढऩे लगता है।

इस क्रिया से शहरों के तापमान में औसतन दो से चार डिग्री सेल्सियस वृद्धि की गणना विभिन्न शोधों में आंकी गई है।

शहरों में अंधाधुंध एसी का प्रयोग मकानों को ठंडा तो करता है, लेकिन वह आसपास के तापमान में वृद्धि करने का

काम भी करता है, क्योंकि इनमें प्रयोग होने वाली क्लोरोफ्लोरो कार्बन गैस ग्लोबल वार्मिंग में सहायक है।

जहां दूर-दूर तक पेड़ नहीं हैं और बहुमंजिला इमारतें होने के साथ साथ बड़ी संख्या में एसी और वाहन चल रहे हैं,

वहां का तापमान बढऩा लाजिमी है।