कालिंदी के घाट पर जुटे 73 तीर्थों के पुरोहित , गंगा- यमुना स्वच्छता पर भी होगी चर्चा ….

0
0

पहली दिसंबर की सर्द भोर। कलरव करती कालिंदी और घाट पर से गूंजती मंत्रोच्चारण की ध्वनि।

और श्रद्धा से परिपूर्ण नजारा और वैदिक संस्कृति की महकती सुगंध।

यह दृश्य बन रहा था शनिवार की सुबह मथुरा के यमुना घाटों पर।

श्री माथुर चतुर्वेद परिषद के शताब्दी वर्ष में प्रवेश करने के अवसर पर अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित

महासभा द्वारा मथुरा में धूमधाम से शोभायात्रा निकाली गई।

इस दौरान कालिंदी के घाटों पर गुजरात, वाराणसी, उज्जैन, प्रयागराज आदि सहित 73 तीर्थों के पुरोहित

एकत्रित हुए।

उन्होंने पतित पावन यमुना मैया का पूजन वैदिक संस्कृति के साथ किया।

महासभा की कार्यकारिणी और कार्यसमिति की बैठक से पूर्व शनिवार को स्वामीनारायण मंदिर कंपू घाट से

भव्य शोभायात्रा निकाली गई। इसमें सभी तीर्थों के पुरोहित एकत्रित हुए।

इस दौरान यात्रा विभिन्न घाटों से होती हुई विश्राम घाट पहुंची।

शोभायात्रा का जगह-जगह भव्य स्वागत हुआ। श्रद्धालुओं पर फूल बरसाए गए।

विश्राम घाट पर पहुंच पुरोहितों ने पतित पावन मां यमुना का सामूहिक पूजन किया। नजारा बेहद भव्य था।

सैकड़ों की संख्या में लोग एकत्रित थे। इसके बाद प्रथम सत्र का उद्घाटन होगा। जिसमें तीर्थ पुरोहित गंगा

यमुना की साफ- सफाई, मंदिर अधिकरण जैसे मुद्दों पर मंथन करेंगे।