कुछ महीनों तक नुकसान में ही रहेगी दिल्ली मेट्रो, ये 2 लाइनें दे सकती हैं बंपर पैसा …

0
0
metro

आगामी 12 सितंबर से दिल्ली मेट्रो का परिचालन पूरी तरह से शुरू होने से जहां लोगों को एक बार फिर
सुविधा होगी, वहीं दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation) को राजस्व भी मिलने
लगेगा। वैसे, पहले दिन सिर्फ येलो लाइन पर परिचालन शुरू होने व बहुत कम संख्या में यात्रियों के सफर
करने से डीएमआरसी की कमाई भी कम रही। बताया जा रहा है कि 12 सितंबर से मेट्रो का परिचालन
सामान्य होने पर यात्रियों की संख्या बढ़ने के साथ-साथ मेट्रो की कमाई भी बढ़ेगी। येलो लाइन व ब्लू लाइन
से ही दिल्ली मेट्रो को सबसे अधिक कमाई होती है। ये दोनों मेट्रो के बड़े कॉरिडोर हैं।

उल्लेखनीय है कि 22 मार्च से मेट्रो का परिचालन बंद था। इस वजह से मेट्रो को करीब 1500 करोड़
रुपये का नुकसान हो चुका है। डीएमआरसी के अनुसार कोरोना से पहले मेट्रो को प्रतिदिन यात्री किराये
से करीब 10 करोड़ रुपये का राजस्व मिलता था। इसमें से एक तिहाई से ज्यादा किराया येलो लाइन व
ब्लू लाइन से मिलता है। इस तरह इन दोनों कॉरिडोर से मेट्रो को एक दिन में करीब 3.33 करोड़ रुपये
का राजस्व मिलता है। सिर्फ येलो लाइन से डेढ़ से पौने दो करोड़ यात्री किराये के रूप में मिलता था।
कोरोना के कारण अभी कुछ समय तक मेट्रो का परिचालन 20 फीसद क्षमता के साथ होगा। इस वजह
से मेट्रो अभी नुकसान में ही रहेगी चलेगी।