कुलदीप के गुर्गों की धमकी से परेशान दुष्कर्म पीड़िता की मां ने शीर्ष अदालत को भी लिखा था पत्र ..

0
0

उन्नाव के माखी गांव की दुष्कर्म पीड़िता को इस मामले में आरोपी दबंग भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर
के खिलाफ मोर्चा खोलने के बाद तमाम तरह के पापड़ बेलने पड़े। पिता की मौत के बाद भी मोर्चा पर डटी
पीड़िता और उसकी मां को लगातार धमकियां मिल रही थीं। माना जा रहा है कि अगर शीर्ष अधिकारियों ने
इनकी गुहार पर अमल किया होता तो पीड़िता को रायबरेली में सड़क दुर्घटना न झेलनी पड़ती।

दुष्कर्म पीड़िता और उसकी मां की ओर से सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस को लिखा एक पत्र सामने आया है।
पीड़िता की कार के एक्सीडेंट से 20 दिन पहले भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई ने अपने गुर्गों के
साथ पीड़िता के घर जाकर धमकाया था। उसके बाद दुष्कर्म के मामले में सह आरोपित शशि सिंह के पति और
बेटे ने भी अंजाम भुगतने और पूरे परिवार को जेल में सड़ाने की धमकी दी थी। कुलदीप के गुर्गों की धमकी
से परेशान दुष्कर्म पीड़िता की मां ने मुख्य न्यायमूर्ति उच्चतम न्यायालय को पत्र भेजकर कार्रवाई कराने का
आदेश देने की गुहार लगाई थी।

रायबरेली में उन्नाव की दुष्कर्म पीड़िता की कार में ट्रक की टक्कर मारने की घटना से लगभग 20 दिन पहले
ही उसको तथा उसकी मां को भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई और गुर्गों ने धमकी दी थी। उसके
बाद सह आरोपी शशि सिंह के पति और बेटे ने भी अंजाम भुगतने और पूरे परिवार को जेल में सड़ाने की
धमकी दी थी।

कुलदीप के गुर्गों की धमकी से परेशान दुष्कर्म पीड़िता की मां ने मुख्य न्यायामूर्ति उच्चतम न्यायालय को पत्र
भेज कार्रवाई कराने का आदेश देने की गुहार लगाई थी। उन्नाव रेप केस की पीड़िता ने इससे पहले सुप्रीम
कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को भी पत्र लिखा था। यह पत्र 12 जुलाई 2019 को उन्नाव रेप पीड़िता
की तरफ से लिखा गया है। इसमें यह कहा गया है कि उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई कीजिए जो हमें
धमका रहे हैं।