ग्‍लोबल फैक्‍ट चेक समिट केप टाउन में, विश्‍वास न्‍यूज के प्रमुख बोले- सोशल मीडिया की ग्रोथ से फेक न्‍यूज में आई तेजी …

0
1

फेक न्‍यूज के खिलाफ लड़ाई को आगे बढ़ाने में ग्लोबल फैक्ट-चेकिंग समिट (Global Fact-Checking Summit) महत्‍वपूर्ण

भूमिका निभा रहा है।

यह सम्‍मेलन तथ्‍यों की पड़ताल करने वालों (fact-checkers), पत्रकारों और विद्वानों को एक छत के नीचे लाकर

पत्रकारिता के उत्‍कृष्‍ठ अभ्‍यास में मदद कर रहा है।

ग्लोबल फैक्ट-चेकिंग समिट या ग्‍लोबल फैक्‍ट-6 (Global Fact 6) लगातार छठी बार आयोजित किया जा रहा है।

ऐसा पहली बार होगा कि ग्लोबल फैक्ट (Global Fact) अफ्रीकी महाद्वीप पर आयोजित किया जाएगा।

इस बार ग्‍लोबल फैक्‍ट-6 का आयोजन दक्षिण अफ्रीका के यूनिवर्सिटी ऑफ केप टाउन (University of Cape Town)

के न्यू लेक्चर थिएटर में 19 से 21 जून तक किया जाएगा।

सम्‍मेलन में 250 से अधिक फैक्‍ट चेकिंग पहलकदमियों के बारे में बताया जाएगा।

साथ ही तथ्‍यों की जांच एवं गलत सूचना से संबंधित कुछ अति महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की जाएगी।

इस तीन दिवसीय सम्‍मेलन में 200 से अधिक प्रतिभागी हिस्‍सा लेंगे। भारत की ओर से हो रही इस पहल में विश्‍वास

न्‍यूज के प्रधान संपादक (Editor-in-chief of Vishvas News) राजेश उपाध्‍याय (Rajesh Upadhyay) भी शामिल

हो रहे हैं।

IFCN के साथ बातचीत में उपाध्‍याय ने फेक न्‍यूज के खतरों से निपटने के लिए पत्रकारों के बीच क्षेत्रीय और राष्ट्रीय

सहयोग की जरूरत को रेखांकित किया।

IFCN को भेजे एक ईमेल में श्री उपाध्याय ने भारत में फेक न्‍यूज के बढ़ते खतरे की ओर ध्‍यान आकर्षित किया और

इससे निपटने की उम्मीद जताई।

उन्‍होंने कहा कि सोशल मीडिया की ग्रोथ के साथ ही फेक न्‍यूज में भी बढ़ोत्‍तरी हुर्इ है।

यदि हम IFCN और वैश्विक फैक्‍ट चेकर्स की मदद से झूठी खबरों के मुद्दे से निपटने में सफल हो जाते हैं तो

यह एक शानदान जीत होगी।