चीन के बढ़ते कदमों को रोकने के लिए फ्रांस की रणनीति का अहम हिस्‍सा हो सकता ‘भारत’ ….

0
0

चीन के एशिया और अफ्रीका में बढ़ते कदमों की आहट अब फ्रांस को भी परेशान करने लगी है। यही
वजह है कि चीन के कदमों को रोकने के लिए फ्रांस रणनीति बनाने में जुट गया है। उसकी इस रणनीति
का हिस्‍सा भारत भी है। इसके अलावा आस्‍ट्रेलिया और जापान भी इसमें उसका साथ निभा सकता है।

दरअसल, जब से चीन अफ्रीका के जिबूती में अपना सैन्‍य बेस बनाया है तब से वह अमेरिका समेत कई
देशों के निशाने पर है। वहीं यदि बात करें भारत की तो उसको पहले से ही चीन की ताकत और उसकी
रणनीति का अंदाजा है। चीन ने जिस तरह से भारत के पड़ोसी देशों को अपने कर्ज के चंगुल में फंसाया है
उससे इन देशों का नजदीकी भविष्‍य में निकलपाना काफी मुश्किल है।

इस बात को अब यूरापीय देश भी बेहतर तरीके से समझने लगे हैं।

फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमेन्‍युल मैक्रॉन ने पिछले माह जापान का आधिकारिक दौरा किया था। इसमें दोनों देशों ने
द्विपक्षीय संबंधों को मजबूती प्रदान करने और भारत-प्रशांत क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया था। आपको
यहां पर बता दें कि इन दोनों देशों ने इस दिशा में मिलकर आगे बढ़ने के लिए पहली बार जोर दिया है।

जानकार मानते हैं कि चीन के बढ़ते कदमों से फ्रांस कहीं न कही खुद को पिछड़ा हुआ मान रहा है।
लिहाजा एशिया में वह ऐसे देशों की ताक में है जो उसकी इस संबंध में मदद कर सकते हैं। इस बाबत
विदेश मामलों के जानकार किंग्‍स कॉलेज, लंदन के प्रोफेसर हर्ष वी पंत का मानना है कि पिछले कुछ वर्षों
में फ्रांस और भारत काफी करीब आए हैं। इन संबंधों को फ्रांस से लड़ाकू विमान राफेल की डील ने मजबूती
प्रदान की है।