चीन सीमा पर जवानों के साथ दीपावली मना सकते हैं मोदी

0
3

देहरादून, [राज्य ब्यूरो]: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के केदारनाथ दौरे का कार्यक्रम अब फाइनल हो गया है। वह दीपावली पर बाबा केदार के दर्शन करने के बाद केदारपुरी में चल रहे पुननिर्माण कार्यों का निरीक्षण करेंगे। संभावना यह भी है कि प्रधानमंत्री उत्तराखंड से लगी चीन सीमा पर सेना की किसी चौकी में जवानों के बीच पहुंचकर उनका भी उत्साहवर्द्धन कर सकते हैं। हालांकि, उनके इस कार्यक्रम के बारे में कोई आधिकारिक जानकारी जारी नहीं की गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बाबा केदार के प्रति अगाध श्रद्धा है। जब भी उन्हें अवसर मिलता है, वह केदारनाथ आते रहे हैं। यही नहीं, केदारपुरी का पुनर्निर्माण नमो के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल है और वह इस पर लगातार निगरानी रखे हुए हैं। केदारपुरी में यह कार्य जोर-शोर से चल रहे हैं।

इसे देखते हुए लंबे समय से चर्चा चल रही थी कि नौ नवंबर को केदारनाथ के कपाट बंद होने से पहले प्रधानमंत्री केदारनाथ पहुंचेंगे। साथ ही कुछ निर्माण कार्यों का लोकार्पण भी करेंगे। इस बीच राज्य में निकाय चुनाव की आचार संहिता लगने और लोकार्पण व शिलान्यास के लिए राज्य निर्वाचन आयोग से अनुमति न मिलने के मद्देनजर प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर असमंजस की स्थिति भी बनी हुई थी। हालांकि, शासन-प्रशासन के स्तर से प्रधानमंत्री के दौरे की तैयारियां लगातार चल रही थीं।

लंबे इंतजार के बाद दौरा फाइनल
लंबे इंतजार के बाद अब प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे का कार्यक्रम फाइनल हो गया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी डॉ. देवेंद्र भसीन के अनुसार प्रधानमंत्री सात नवंबर को दीपावली पर केदारनाथ के दर्शनों को आ रहे हैं। वह सुबह दिल्ली से पहले देहरादून के जौलीग्रांट हवाई अड्डे पहुंचेंगे और फिर केदारनाथ रवाना होंगे।

उन्होंने बताया कि अभी तक मिले कार्यक्रम के अनुसार प्रधानमंत्री बाबा केदार के दर्शनों के बाद केदारपुरी में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों का निरीक्षण करेंगे। इसके बाद वह दिल्ली रवाना हो जाएंगे।

सूत्रों के अनुसार केदारनाथ में पूजा-अर्चना व पुनर्निर्माण कार्यों को देखने के बाद प्रधानमंत्री देश के अंतिम गांव माणा से लगी चीन सीमा पर भारतीय सेना की किसी चौकी अथवा जोशीमठ में सेना के कैंप में जाकर कुछ समय सैनिकों के साथ बिता सकते हैं।

हालांकि, अभी इस कार्यक्रम को लेकर किसी भी स्तर से आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन वर्ष 2016 में प्रधानमंत्री का दीपावली के मौके पर चीन सीमा पर माणा आने का कार्यक्रम प्रस्तावित था। तब प्रधानमंत्री हिमाचल चले गए थे। अब जबकि प्रधानमंत्री का दीपावली पर केदारनाथ का कार्यक्रम फाइनल हो गया है तो माना जा रहा कि वे प्रकाश पर्व पर कुछ समय सैनिकों के बीच भी बिता सकते हैं।

पीएम की सुरक्षा में पांच सौ सुरक्षा कर्मी तैनात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के केदारनाथ धाम में प्रस्तावित दौरे को लेकर पुलिस ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। पीएम की छह स्तरीय सुरक्षा में हेलीपैड से लेकर मंदिर तक सादे कपड़ों में फोर्स तैनात की गई है। सुरक्षा में एसपीजी (स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप) के सदस्य ज्यादा हैं।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के भ्रमण के बाद पुलिस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सात नवंबर को केदारनाथ में प्रस्तावित दौरे की तैयारी में जुट गई है। राष्ट्रपति का काफिला दिल्ली रवाना होने के बाद पुलिस-प्रशासन ने अलग-अलग जगह प्रधानमंत्री के स्वागत और सुरक्षा तैयारियों को लेकर बैठक ली।

केदारनाथ में एसपीजी की एक टीम पहुंच चुकी है, जबकि दूसरी टीम मंगलवार तक पहुंच जाएगी। इसके अलावा 500 पुलिस अधिकारी और कर्मचारी भी प्रधानमंत्री की सुरक्षा में तैनात किए जा रहे हैं। इनमें से 10 से ज्यादा आइपीएस जौलीग्रांट, गुप्तकाशी और केदारनाथ में तैनात किए जा रहे हैं।

इसी तरह सीओ रैंक के अफसरों को भी हेलीपैड से लेकर मंदिर तक तैनात किया जाएगा। पुलिस सूत्रों का कहना है कि इस बार प्रधानमंत्री की सुरक्षा में सादे कपड़ों में पुलिसकर्मियों की तैनाती की जा रही है। एसपीजी के घेरे में प्रधानमंत्री हेलीपैड से मंदिर तक पहुंचेंगे। इसके बाद कमांडो और बिना वर्दीधारी पुलिस सुरक्षा में तैनात रहेंगे। सुरक्षा में किसी तरह की लापरवाही न हो, इसके लिए सीनियर आइपीएस अफसरों को भी मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी सौंपी गई है।