जज के परिवार पर हमले में एक और खुलासा, इसलिए महिपाल से दूर हुए थे ससुराल वाले

0
8

गुरुग्राम/नारनौल, जेएनएन। गुरुग्राम के अतिरिक्ति सत्र एवं जिला न्यायाधीश कृष्णकांत की पत्नी रितु व बेटे ध्रुव पर गोली चलाने वाले हेड कांस्टेबल महिपाल का अपनी ससुराल से नाता टूटने का कारण धर्म परिवर्तन ही बना। 11 अगस्त 2015 को जब महिपाल के गांव भुगांरका में धर्म परिवर्तन को लेकर काउंसिलिंग शिविर में ग्रामीणों ने हंगामा किया और महिपाल ने अपने गुरु इंद्रराज सिंह के समक्ष धर्म परिवर्तन कर सुजाता नाम की एक महिला को गुरु मां माना तो ससुराल वालों ने महिपाल से नाता तोड़ लिया था।

एसआइटी ने महिपाल की ससुराल गांव रोजका में उसकी पत्नी मीनू व ससुराल के लोगों से बंद कमरे में पूछताछ की। इसके बाद रिश्ते टूटने का यह राज सामने आया है। पुलिस के अनुसार गुरुग्राम पुलिस लाइन में जहां पर महिपाल का आवास था, वहां वह कम ही जाता था। पत्नी को अतिरिक्त आय की बात कहकर वह टैक्सी चलाने के लिए घर से अक्सर गायब रहता था।

गुरुग्राम व दिल्ली में रहने वाले उसके पांच दोस्तों से पूछताछ में पता चला है कि काउंसिलिंग शिविर के लिए हिमाचल, उत्तराखंड व उत्तर प्रदेश की ओर से आने वाले धर्म गुरुओं को वह टैक्सी में बैठाकर बैठकों में ले जाता था। जांच टीम के निशाने पर सुजाता व फेसबुक पर महिपाल का म्युचुअल मित्र सागर पाठक भी है। सागर पाठक फेसबुक पर उसका ऐसा मित्र है, जिसने घटना से एक दिन महिपाल द्वारा फेसबुक पर किए गए पोस्ट को सबसे पहले लाइक किया था। सागर, ईसाई समुदाय के एक ऐसे ग्रुप से जुड़ा है जिसके 1191781 सदस्य हैं। सागर ने फेसबुक पर अपना पता गंगोह सहारनपुर उत्तर प्रदेश लिखा है। महिपाल ने घटना के बाद से कुछ नहीं खाया है। वो सवालों के जबाव भी सिर को हिलाकर ही दे रहा है। न तो वह किसी अधिकारी से आंख मिला रहा है औक न ही किसी से बात कर रहा है।