जम्मू-कश्मीर पर मोदी सरकार के पक्ष में यूं ही नहीं आए केजरीवाल, ये हैं बड़े कारण …

0
0

पिछले पांच साल के दौरान यह पहला बड़ा मौका है जब दिल्ली की सत्ता पर कब्जा जमाने वाली आम
आदमी पार्टी (AAM AADMI PARTY) सरकार ने केंद्र में सत्तासीन नरेंद्र मोदी सरकार के किसी
प्रस्ताव पर इतना खुलकर समर्थन किया है। यहां बात हो रही है दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल
द्वारा अनुच्छेद 370 (ATICLE 370) हटाए जाने पर भारतीय जनता पार्टी सरकार का समर्थन करने
की। आइए जानते हैं कि आखिर किन वजहों की चलते सीएम केजरीवाल ने आगे बढ़ने जम्मू-कश्मीर
से धारा 370 हटाए जाने पर भाजपा का समर्थन किया।

लगता है कि सीएम अरविंद केजरीवाल ने देश के साथ-साथ दिल्ली की जनता का मूड भांप लिया था
कि यह मुद्दा जनभावना से जुड़ा है, इसीलिए सीएम ने खुद ट्वीट कर इस प्रस्ताव का न केवल समर्थन
किया, बल्कि अप्रत्यक्ष रूप से वह भाजपा से साथ दिखे।

दिल्ली में आगामी छह महीनों के दौरान विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में अरविंद केजरीवाल इस
मुद्दे को भाजपा के पक्ष में नहीं जाने देना चाहते थे।

लगातार भाजपा की आलोचना करने वाले अरविंद केजरीवाल अपने इस फैसले उस छवि को
तोड़ने की भी कोशिश की है कि वह मोदी सरकार के कटु आलोचक हैं।

केंद्र में भाजपा के जीतने पर केजरीवाल ने पीएम मोदी को बधाई दी थी। साथ ही इस बात का
इशारा भी किया था कि वह राज्य और केंद्र में कोई टकराव नहीं चाहते हैं।

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को लेकर हुए
फैसले पर मोदी सरकार को संसद के उच्च सदन में सोमवार को जहां अपनों के विरोध का
सामना करना पड़ा, वहीं उसे धुर विरोधियों का साथ भी मिला।

बीजद, अन्नाद्रमुक और वाईएसआरसीपी ने तो सरकार का समर्थन किया ही, आश्चर्यजनक ढंग से
बसपा और आप भी सरकार के साथ खड़ी नजर आईं।