जानें कैसे कर सकते हैं फ्लाइट में बचाव

0
8
जानें कैसे कर सकते हैं फ्लाइट में बचाव
जानें कैसे कर सकते हैं फ्लाइट में बचाव

Coronavirus Precaution During Flight: पूरी दुनिया के करीब 60 देश कोरोना वायरस के कहर का शिकार हो चुके हैं और ये तेज़ी से फैलता जा रहा है। यहां तक कि, इस हफ्ते भारत में कोरोना वायरस के कुल मामले 75
तक पहुंच गए, जिसमें से एक की मौत हो चुकी है, जबकि तीन बिल्कुल स्वस्थ हो चुके हैं।

कोरोना वायरस का ऑफिशियल नाम Covid-19 रखा गया है, इसकी शुरुआत चीन के वुहान शहर से हुई थी, जो अब एशिया के बाहर भी पहुंच चुका है। इस ख़तरनाक इंफेक्शन की वजह से न सिर्फ ट्रेवेल इंडस्ट्री को नुकसान पहुंचा है,
बल्कि कई तरह की बिज़नेस ठप हो रहे हैं। ट्रेवल की बात करें, तो दुनियाभर से कई लोगों ने अपनी प्री-बुक्ड फ्लाइट या होटल को कैंसल कराया है या फिर टाल दिया है।

हालांकि, इसके बावजूद कई ऐसे लोग हैं जिनके लिए ट्रिप कैंसल करने का ऑप्शन नहीं है और उन्हें किसी भी हाल में सफर करना ही होगा। कोरोना वायरस से बचाव की जो सलाह दी जा रही है, उसमें लोगों को एक-साथ एक स्थान पर
इकट्ठा होने से बचने का सुझाव दिया जा रहा है। लेकिन, फ्लाइट में तो सब एक साथ सफर करते हैं तो ऐसे में क्या करें?

यही वक्त है कि आप अपने अंदर छिपे सफाई पसंद इंसान को बाहर निकालें और प्लेन में बैठने से पहले अपने आसपास की सारी जगह और कोनों को साफ कर लें। अपने प्लेन की सीट को साफ करें, मास्क पहने और यहां तक
कि दस्तानें भी पहनें। हालांकि, ज़्यादातर फ्लाइट्स दावा करती हैं कि वह हर बार उड़ान भरने से पहले अपनी एयरबस को पूरी तरह सेनिटाइज़ करते हैं, लेकिन इसके बावजूद आप अपने आसपास की चीज़ों को साफ कर लें।

तो हाज़िर हैं आप के लिए दिशा निर्देश जो हवाई जहाज़ में यात्रा करते समय कोरोना वायरस के इस सीज़न में अपने आपको सुरक्षित रखने के लिए याद रखने चाहिए:

अपनी सीट को करें सेनिटाइज़

हम सब जानते हैं कि कीटाणु हर सतह पर छिपके रहते हैं, इसलिए हवाई जहाज़ की सीट पर बैठने से पहले उसे अच्छी तरह सेनिटाइज़ कर लें। इसे करते वक्त अगर ग्लव्ज़ पहन लेंगे तो बेहतर रहेगा। इसके बाद साबुन से
अच्छी तरह अपने हाथ धो लें।

हाथ धोते रहें

अगर पानी उपलब्ध नहीं है, तो आप सेनिटाइज़र का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन अगर पानी है तो साबुन से हाथों को कम से कम 20 सेकेंड के लिए धोएं। क्योंकि ये वायरस एक व्यक्ति से दूसरे में फैलता है, इसलिए हाथ धोना
बेहद ज़रूरी है। वायरस कम से कम 24 घंटे तक रहता है इसलिए उससे बचने के लिए कई बार हाथ धोने की ज़रूरत है।

प्लेन में विंडो सीट चुनें

एक स्टडी के अनुसार फ्लाइट में विंडो सीट चुनना बेहतर है क्योंकि यह अन्य यात्रियों से बीमारी के अनुबंध के आपके जोखिम को कम करता है। बीमार यात्री सिर्फ ड्रॉपलेट्स से ही इंफेक्शन को दूर बैठे या फिर आगे और पीछे बैठे यात्रियों में नहीं फैला सकते। इसलिए विंडो सीट सबसे सेफ जगह होगी।

सतह को करें डिस-इंफेक्ट

रिपोर्ट्स की मानें तो वायरस 24 घंटे से अधिक समय तक कठोर सतहों पर जीवित रह सकते हैं। वहीं, कोरोना वायरस किसी भी सख्त सतह पर 9 दिनों तक ज़िंदा रह सकता है। इसलिए ऐसी सभी चीज़ों को डिस-इंफेक्ट करें जिन्हें आप दिन में कई बार छूते हैं, जैसे ट्रे टेबल्स, टॉर्च, दरवाज़े के हैंडल, नल, ग्लास या मेटल की सतह आदि। सख्त सतह इसलिए, क्योंकि अगर कोई छींकता या खांसता है तो उसके ड्रॉपलेट्स इसी तरह की सतह भी टिक सकते हैं।

ऐसा डिस-इंफेक्ट लें जिसमें 60% अल्कोहल हो

अगर आप किसी ऐसी जगह हैं जहां साबुन और पानी उपलब्ध नहीं है, तो अल्कोहल युक्त हैंड सेनिटाइज़र का इस्तेमाल कर सकते हैं। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्रों के अनुसार, एक हैंड सेनिटाइज़र के प्रभावी होने के लिए, उसमें कम से कम 60 प्रतिशत अल्कोहल की आवश्यकता होती है।

बार-बार चेहरे को छुने से बचें

अपनी आंखों, नाक और मुंह को बार-बार न छुएं, क्योंकि इससे वायरस आपके शरीर में जा सकता है। छींकते या खांसते वक्त अपने चेहरे को टिशू से ढकें और फिर उसे डस्टबिन में फेंक दें। अगर आप पहले से बीमार हैं, तो मास्क पहनें।