जेट एयरवेज संकट: परेशान यात्रियों की मदद को Air India सक्रिय

0
0

आर्थिक तंगी से जूझ रही जेट एयरवेज के परेशान यात्रियों की मदद के लिए एयर इंडिया ने बड़ा कदम उठाया है. वहीं सरकार ने भी दूसरी विमानन कंपनियों को किराए में बढ़ोतरी नहीं करने को कहा है.

बंद होने की कगार पर खड़ी एयरलाइन जेट एयरवेज की वजह से फंसे यात्रियों को परेशानी हो रही है. इस बीच यात्रियों की मुश्किलें कम करने के लिए सरकार के अलावा एयर इंडिया सक्रिय हो गई है. दरअसल, अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की मुश्किलें कम करने के लिए सरकारी एयरलाइन कंपनी एयर इंडिया ने विशेष किराए की पेशकश की है. वहीं नागर विमानन मंत्रालय ने टिकटों का दाम बढ़ने के बीच विमानन कंपनियों को कीमतें किफायती रखने और बाजार बिगाड़ने वाले रवैये से बचने के लिए कहा है.

एयर इंडिया का विशेष किराया ऑफर

एयर इंडिया की ओर से कहा गया कि कहा कि पेरिस , लंदन हीथ्रो ,

सिंगापुर , दुबई , हांगकांग , अबूधाबी , जेद्दाह और मस्कट विदेशी हवाई अड्डों पर फंसे यात्रियों को ” विशेष किराए ” की पेशकश की गई है.

एयर इंडिया के बयान में कहा गया,   ”सद्भावना के तौर पर और 9 डब्ल्यू

(जेट एयरवेज उड़ान कोड) की कठिनाई को कम करने के लिए यह फैसला लिया गया है.

” एयर इंडिया ने कहा कि जिन यात्रियों के पास जेट एयरवेज की वापसी की कंफर्म टिकट होगी ,

वे एयर इंडिया के ” फंसे हुए यात्रियों के लिए विशेष किराया पैकेज ” का लाभ उठा सकेंगे.

जेट के विमानों को लेने की इच्छा जताई

यही नहीं, एयर इंडिया ने जेट एयरवेज के पांच खड़े किए गये बोइंग 777एस

विमानों को लीज पर लेने की पेशकश की है. एयर इंडिया ने कहा है कि वह इन विमानों की उड़ान लंदन,

दुबई और सिंगापुर मार्ग पर कर सकती है.  एयर इंडिया के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने

भारतीय स्टेट बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार को 17 अप्रैल को लिखे पत्र में कहा है,

‘‘हम पुराने स्थापित मार्गों पर इन खड़े किए जा चुके पांच बी777एस विमानों के

परिचालन की संभावना तलाश रहे हैं.

’’बता दें कि जेट एयरवेज के पास 10 बड़े आकार के बोइंग 777-300 ईआर विमान हैं.

इसके अलावा उसके पास कुछ एयरबस ए330एस विमान हैं.

इन विमानों का इस्तेमाल एयरलाइन मध्यम दूरी और लंबी दूरी की नयी दिल्ली और मुंबई से लंदन,

एम्सटर्डम और पेरिस की उड़ानों के लिए करती है.

सरकार भी हुई सख्‍त

इस बीच जेट एयरवेज की उड़ानें बंद होने से दूसरी एयरलाइन कंपनियों द्वारा किराए में

बढ़ोतरी को लेकर सरकार सख्‍त हो गई है.

इस मुद्दे को लेकर सरकार के अधीन नागर विमानन मंत्रालय ने विमानन कंपनियों के

प्रतिनिधियों के साथ बैठक की है. बैठक में मंत्रालय ने कंपनियों से कहा गया है कि वह बाजार बिगाड़ मूल्य

गतिविधियों से बचें और विमान यात्रा टिकटों के दाम यात्रियों की पहुंच के दायरे में रखें.

सोशल मीडिया पर मदद कर रही जेट एयरवेज

हालांकि जेट एयरवेज की ओर से विमान सेवाएं बंद होने की वजह से परेशान यात्रियों की मदद भी की जा रही है.

जेट एयरवेज के वेरिफाई सोशल मीडिया पर ग्राहक टिकट रिफंड और कैंसिलेशन से जुड़े सवाल पूछ रहे हैं.

कंपनी की ओर से हर सवालों का जवाब डायरेक्‍ट मैसेज या ट्वीट के जरिए दिया जा रहा है.