दुनिया भर में संक्रमण की सबसे बुरी मार झेल रहे अमेरिका के लिए वैक्‍सीन की खेप बस पहुंचने वाली है।

0
1

पिछले साल के अंत में चीन के वुहान से निकले कोरोना वायरस संक्रमण ने 2-3 माह के भीतर ही पूरी दुनिया
को चपेट में ले लिया और 11 मार्च 2020 को विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने इसे महामारी घोषित कर दिया। इस पूरे
साल महामारी के संकट से जूझ रही दुनिया को केवल वैक्‍सीन से ही उम्‍मीदें हैं हालांकि इससे से निजात पाने के
क्रम में दुनिया भर के तमाम देशों में रिसर्च जारी है। अभी के आंकड़ों के अनुसार, कई वैक्‍सीन विकसित हो चुके
हैं और इनका ट्रायल भी अंतिम चरण में है। एक-दो वैक्‍सीन तो अब लोगों तक पहुंचने के करीब हैं…, जाने इससे
संबंधित तमाम जानकारियां-

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Prime Minister Narendra Modi) सोमवार को वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए कोविड-19 वैक्‍सीन को तैयार करने वाली तीन टीम से बातचीत करेंगे। PMO के अनुसार, वे Gennova Biopharma, Biological E और  Dr Reddy’s से बात करेंगे जो वैक्‍सीन को विकसित करने की प्रक्रिया में शामिल हैं।

शनिवार को प्रधानमंत्री मोदी पुणे में सीरम इंस्‍टीट्यूट भी गए थे। साथ ही वे अहमदाबाद स्‍थित जाइडस बायोटेक पार्क व हैदराबाद में भारत बायोटेक फैसिलिटी का भी जायजा लिया और वैक्‍सीन के विकास व निर्माण प्रक्रिया की समीक्षा की।

-फिलीपींस में कोरोना वायरस वैक्‍सीन के शॉट के लिए एक बड़े जनसमूह को  एक साल और यानि 2022 तक इंतजार करने की संभावना जताई गई है। यह जानकारी देश की महामारी रेस्‍पांस टीम की ओर से सोमवार को दी गई है क्‍योंकि सरकार ने देश में सबसे पहले हेल्‍थ वर्करों व उन समूहों को प्राथमिकता दी है जो इस बीमारी के कारण अधिक खतरे में हैं।