देखें, क्यों अकेले ही पाकिस्तान के खिलाफ काफी है राफेल !

0
3

राफेल विमान सौदे को लेकर कांग्रेस की ओर से जारी हमले के बीच वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने केंद्र सरकार का बचाव किया है. उन्होंने 126 लड़ाकू राफेल विमान की जगह 36 विमान खरीदने के फैसले का बचाव करते हुए कहा कि पहले भी ऐसी ‘आपात’ खरीद होती रही है. उन्होंने बुधवार को फ्रांस की चौथी पीढ़ी के इन विमानों की जमकर तारीफ की.

वायुसेना प्रमुख ने कहा कि फ्रांस से लड़ाकू विमान राफेल हासिल कर वायुसेना अपने कमजोर बेड़े को मजबूत कर रही है. खासतौर से ऐसे समय में जब भारत के पड़ोसी ‘चैन से नहीं बैठ’ रहे हैं और लगातार अपने वायु युद्ध क्षमताओं का आधुनिकीकरण कर रहे हैं. राफेल और एस-400 (एंटी मिसाइल सिस्टम) को मुहैया करा सरकार वायुसेना को मजबूत कर रही है.

धनोआ ने कहा कि हमारे मध्यम तकनीक वाले लड़ाकू विमान जैसे तेजस अकेले सक्षम नहीं हैं, इसलिए हमें राफेल जैसे जेट लड़ाकू विमान की जरूरत है. वायुसेना के लिए स्वीकृत 42 स्क्वाड्रन की जगह 31 स्कवाड्रन ही होने का जिक्र करते हुए धनोआ ने कहा कि पाकिस्तान और चीन के साथ दो युद्ध मोर्चे के खतरे के बावजूद देश लड़ाकू विमान की कमी का सामना कर रहा है.