प्रज्ञा ठाकुर के बचाव में आए शिवराज सिंह चौहान

0
0

शिवराज चौहान ने प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur) को ‘देशभक्त और हिन्दुस्तान की मासूम बेटी’ बताया है. साथ ही उन्होंने कहा कि वह भोपाल से भारी बहुमत से जीतेंगी

नई दिल्ली: 

2008 मालेगांव बम विस्फोट (Malegaon Blast 2008) मामले में आरोपी और भोपाल सेभाजपा (BJP) उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर के बचाव में मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Chouhan) उनके बचाव में आए हैं. चौहान ने प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur)को ‘देशभक्त और हिन्दुस्तान की मासूम बेटी’ बताया है. साथ ही उन्होंने कहा कि वह भोपाल से भारी बहुमत से जीतेंगी. चौहान ने कहा कि प्रज्ञा ठाकुर को मालेगांव बम विस्फोट मामले में झूठे आरोपों के तहत फंसाया गया है. एनडीटीवी से बात करते हुए चौहान ने कहा, ‘उन पर आरोप लगाने के लिए कानून का दुरुपयोग किया गया. उनके साथ अमानवीय व्यवहार हुआ है. उनके साथ जो हुआ है, उसे सोचकर किसी के भी रौंगटे खड़े हो सकते हैं. मेरा आरोप है कि एक झूठे ‘हिंदू आतंकवाद’ का प्रचार किया गया था और दिग्विजय सिंह इसके मास्टरमाइंड थे.’

से कांग्रेस ने दिग्विजय सिंह को टिकट दिया है. इस सीट से साल 1989 से भाजपा जीतती आ रही है. भोपाल सीट भाजपा के लिए सुरक्षित सीट मानी जाती है, ऐेसे में भाजपा ने प्रज्ञा ठाकुर को वहां से क्या उतारा है? इस सवाल पर उन्होंने कहा, ‘कोई भी सामान्य उम्मीदवार दिग्विजय सिंह को हरा सकता था. लेकिन पार्टी ने प्रज्ञा को चुना. मुझे नहीं समझ आता कि उनकी उम्मीदवारी को लेकर इतना हंगामा क्यों है.’

प्रज्ञा ठाकुर पर लगे आरोपों पर कोई जवाब दिए बिना चौहान ने कहा कि एक नागरिक के

नाते प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव लड़ने का अधिकार है और भाजपा ने उन्हें जिम्मेदारी से उतारा है.

उन्होंने कहा, ‘यह वो देश है, जहां द्रौपदी पर अत्याचार होने पर महाभारत हुआ था.

लोग स्वीकार नहीं करेंगे कि साध्वी प्रज्ञा के साथ क्या हुआ है.’

हेमंत करकरे को ‘शाप’ सहित दिए गए विवादित बयानों के बारे में सवाल पूछे जाने चौहान ने कहा कि,

‘वह एक सामाजिक कार्यकर्ता रही हैं और यह चीज उन पर थोप दी गई है.

उन्होंने कहा कि वह अपने लिए बोल सकती हैं, उन्हें किसी के बचाव की जरूरत नहीं है.

प्रज्ञा ठाकुर पर लगे आरोपों पर कोई जवाब दिए बिना चौहान ने कहा कि एक नागरिक के नाते प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव लड़ने का अधिकार है और भाजपा ने उन्हें जिम्मेदारी से उतारा है.

उन्होंने कहा, ‘यह वो देश है, जहां द्रौपदी पर अत्याचार होने पर महाभारत हुआ था.

लोग स्वीकार नहीं करेंगे कि साध्वी प्रज्ञा के साथ क्या हुआ है.’

हेमंत करकरे को ‘शाप’ सहित दिए गए विवादित बयानों के बारे में सवाल पूछे जाने चौहान ने कहा कि,

‘वह एक सामाजिक कार्यकर्ता रही हैं और यह चीज उन पर थोप दी गई है.

उन्होंने कहा कि वह अपने लिए बोल सकती हैं, उन्हें किसी के बचाव की जरूरत नहीं है.