बांदा में महिला के साथ गैंगरेप, पुलिस ने जबरन समझौता कराया

0
0

एक 23 साल की महिला ने अपने साथ गैंगरेप कर जबरन बंधक बनाने का मामला

दिल्ली महिला आयोग में दर्ज कराया है.

पीड़ित महिला उत्तर प्रदेश के बांदा स्थित बबेरू थानाक्षेत्र की रहने वाली है.

ससुराल वालों से किसी बात पर विवाद होने के बाद उसके रिश्ते का देवर शिवचरण

यादव उसे मायके पहुंचाने के नाम पर बहला-फुसलाकर अपने एक साथी सूरजदीन के पास ले गया,

जहां पहली बार उसका गैंगरेप किया गया.

यह सिलसिला महीनों तक चलता रहा,

वह भी किसी एक जगह नहीं, दर्जनों जगह.

पीड़िता को हर दिन धमकियां भी मिलती रहीं.

पहली बार एक महीने तक उसे बंधक बना कर हर दिन उसका बलात्कार किया गया

और उसके बाद किसी दूसरी महिला के हाथों 30 हजार रुपए में उसका सौदा कर दिया गया.

इसके बाद वह महिला कितने लोगों के हाथों बिकी और कितनों ने उसके साथ बलात्कार किया,

यह सिलसिलेवार कहानी उसकी चिट्ठी खुद बयां कर देती है.

पता लगा है कि बंधुआ मुक्ति मोर्चा के कुछ सदस्य पीड़िता को दिल्ली लेकर आए हैं.

पीड़िता ने दिल्ली के रानीबाग थाना इंचार्ज के पास खुद पर हुए जुल्मों की शिकायत

दर्ज करवानी चाही तो पुलिस वालों ने एफआईआर दर्ज करने के बजाय उसी

का उत्पीड़न करना शुरू कर दिया. पुलिस वालों ने मंजू पर दबाव डाला कि

वह आरोपियों से कुछ पैसे लेकर मामला रफा-दफा कर ले.

जब महिला ने पुलिस की यह बात मानने से मना कर अपराधियों के विरुद्ध

सख्त कार्रवाई करने की मांग की तो पुलिस ने न सिर्फ उसके साथ गाली-गलौच की,

बल्कि उस पर लगातार दबाव डालते रहे.