बाबू बजरंगी को सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत : 2002 Gujarat riots case

0
7

2002 Gujarat riots case: सुप्रीम कोर्ट ने बाबू बजरंगी को जमानत दे दी है।

बाबू बजरंगी को नरोदा पाटिया मामले में दोषी ठहराया गया था।

बजरंगी को स्वास्थ्य कारणों से जमानत मिली है।

बाबू बजरंगी का असली नाम बाबूभाई पटेल है और उनका संबंध बजरंग दल से रहा है।

गुजरात में साल 2002 में साबरमती एक्सप्रेस कांड के बाद हुए दंगों को लेकर बाबू बजरंगी हमेशा चर्चा के केंद्र में रहे हैं।

साल 2007 में एक स्टिंग ऑपरेशन सामने आया था, जिसमें वह नरोदा पाटिया नरसंहार में अपनी भूमिका की बात कही थी।

साल 2002 के दंगों के बाद वह विश्व हिंदू परिषद् में शामिल हो गए और बाद में वह शिवसेना का हिस्सा बन गए थे।

स्टिंग में क्या बोले बाबू बजरंगी

बाबू बजरंगी ने तहलका के इस स्टिंग ऑपरेशन में कहा था कि उन्होंने ‘वीर माहाराणा प्रताप जैसा कुछ काम’ किया।

इस स्टिंग में बजरंगी ने बताया था कि उन्होंने अहमदाबाद में 28 फरवरी 2002 को हुए नरसंहार के लिए भीड़ को

उकसाने का काम किया था। यही नहीं उन्होंने बम और बंदूकें मुहैया कराने की बात भी स्वीकार की थी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here