महेंद्र सिंह धोनी टीम के आधे कप्तान, उनके बगैर असहज थे विराट कोहली: बिशन सिंह बेदी

0
2

दिग्गज क्रिकेटर बिशन सिंह बेदी ने कहा कि धोनी की मौजूदगी से टीम शांत भाव से खेलती है.

कप्तान को भी उनकी जरूरत महसूस होती है और उनके बिना वह असहज नजर आते हैं,

यह अच्छे संकेत नहीं हैं.

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी ने सोमवार को कहा कि महेंद्र सिंह धोनी को भारतीय टीम के आधे कप्तान हैं.

उन्होंने कहा कि उनकी गैरमौजूदगी में कप्तान विराट कोहली ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे

वनडे में असहज नजर आ रहे थे. पूर्व कप्तान धोनी को अंतिम दो वनडे के लिये आराम दिया गया है.

चौथे मैच में भारत की हार के बाद सीरीज अब 2-2 से बराबर है और बुधवार को निर्णायक मैच खेला जाएगा.

टीम में अब प्रयोग का वक्त नहीं

पूर्व स्पिनर बेदी ने न्यूज एजेंसी पीटीआई से कहा, ‘मैं टिप्पणी करने वाला कौन होता हूं

लेकिन हम सभी हैरान थे कि धोनी को आराम क्यों दिया गया और कल विकेट के पीछे,

बल्लेबाजी और फील्डिंग में उनकी कमी खली.

वह एक तरह से आधा कप्तान है.’उन्होंने कहा, ‘धोनी अब युवा नहीं होने जा रहा हैं

और वह पहले जैसा फुर्तीला भी नहीं है लेकिन टीम को उनकी जरूरत है.

दिग्गज क्रिकेटर ने कहा कि धोनी की मौजूदगी से टीम शांत भाव से खेलती है.

कप्तान को भी उनकी जरूरत महसूस होती है और उनके बिना वह असहज नजर आते हैं,

यह अच्छे संकेत नहीं हैं.

बेदी ने इसके साथ ही कहा कि भारतीय टीम को विश्व कप से पहले वनडे टीम में प्रयोग नहीं करने चाहिए थे.

विश्व कप से पहले IPL समस्या

उन्होंने कहा, ‘मैं निजी तौर पर चाहता हूं कि वे वर्तमान में जियें. विश्व कप में अब भी ढाई महीने का वक्त है.

केवल अपना खेल खेलो. विश्व कप के लिये हम पिछले डेढ़ साल से प्रयोग कर रहे हैं और मैं इससे कतई खुश नहीं हूं.

’बेदी ने इसके साथ ही कहा कि 23 मार्च से शुरू होने वाला आईपीएल विश्व कप से पहले

टीम के लिये गंभीर समस्या पैदा कर सकता है.

उन्होंने कहा, ‘इनमें से कोई भी आईपीएल के दौरान चोटिल हो सकता है.

आप ऐसी उम्मीद नहीं कर सकते हैं कि खिलाड़ी फ्रेंचाइजी की तरफ से खेलते हुए अपना सौ फीसदी न दें

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के आखिरी दो मैचों के लिए धोनी को आराम देने का फैसला किया गया है.

उनकी गैरमौजूदगी में विकेटकीपर बल्लेबाजी ऋषभ पंत को कीपिंग का मौका दिया गया है.

भारत को सीरीज के चौथे मैच में 358 रन का लक्ष्य देने के बावजूद 4 विकेट से हार मिली थी.