मैनपुरी में मायावती ने कहा- गेस्ट हाउस कांड के बाद भी सपा से गठबंधन एक कठिन फैसला ….

0
1

लोकसभा चुनाव 2019 में भाजपा को सबक सिखाने के मकसद से हुआ समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी व राष्ट्रीय

लोकदल का गठबंधन रंग ला रहा है। गठबंधन आज दो दशक बाद मुलायम सिंह यादव व मायावती को एक मंच पर

लाने में सफल रहा है।

मैनपुरी के क्रिश्चियन कॉलेज ग्राउंड में बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने कहा कि मायावती ने कहा कि इस बार

भाजपा को सबक दिलाने के लिए उत्तर प्रदेश में बसपा-सपा-आरएलडी का गठबंधन हुआ है। उन्होंने कहा कि आप लोग

सोच रहे होंगे कि गेस्ट हाउस कांड के बाद भी हमने समाजवादी पार्टी से गठबंधन क्यों किया। उन्होंने कहा कि कभी-कभी

कठिन फैसले लेने पड़ते हैं। हमने देश के हालात को देखते हुए सपा व रालोद के साथ गठबंधन किया है। विरोधी दल के

नेता के साथ मीडिया हमारी एकता से हैरान है। मायावती ने कहा कि हमको विरोधी दलों के बहकावे में नहीं आना है।

हमारी पार्टी सरकार में आती है तो हम गरीबों को नौकरी दिलाएंगे। भाजपा गठबंधन को लेकर जनता को गलत तरीके से

बहका रही है, आपको उनके बहकावे में नहीं आना है। दो चरणों के ही चुनाव में भाजपा की हालत खराब हो गई है।

मोदी क्या-क्या नहीं बोलते। मोदी जी सुनिए। आपने हमारे गठबंधन को सराब कहा है तो गठबन्धन को नशा चढ़ गया है।

हम अब भाजपा को बाहर कर देंगे।

मायावती ने कहा कि मैनपुरी में भीड़ में जबरदस्त जोश है। आप लोगों ने मेरा निवेदन है कि मुलायम सिंह यादव को

ऐतिहासिक जीत दिलाएं। बसपा मुखिया मायावती ने कहा कि पार्टी हित और देश हित में कुछ कठिन फैसले लेने पड़ते हैं।

मुलायम सिंह यादव जी देश के काफी बड़े नेता हैं। यह जो कहते हैं वह करते हैं। यह मोदी की तरह पिछड़ों वर्ग के नकली

नेता नहीं हैं। मायावती ने कहा मोदी खुद को पिछड़ा बताकर लोगो को गुमराह कर रहे हैं। मुलायम सिंह ने पिछड़ों का विकास

किया। मायावती ने कहा कि इस बार चुनाव में आप लोग मुलायम सिंह यादव को जीत दिला देना। इस चुनाव में असली और

नकली की पहचान कर लेना है। मायावती ने अपने सम्बोधन में गठबंधन प्रत्याशी मुलायम सिंह को जिताने की अपील की।

जय भीम, जय लोहिया, जय भारत।