ये हैं भारत के सबसे प्रसिद्ध चोर बाजार, क्या आप जानते हैं इनके बारे में…

0
8

 

आज हम आपको देश के पांच ऐसे बड़े बाजारों के बारे में बता रहे हैं, जहां चोरी का सामान मिलता है। यहां चोरी के जूते, फोन, मोबाइल, गैजट और ऑटो पार्ट से लेकर कार तक बेची जाती हैं। देश के इन चोर बाजारों में चोरी की गाड़ी को मॉडिफाइड करके बेचा जाता है। यहां अपनी गाड़ी या बाइक खड़ी करना खतरे से खाली नहीं है। गलती से आप अपनी गाड़ी पार्क कर देंगे तो हो सकता है कि उसके स्पेयर पार्ट्स चोर बाजार की दुकानों पर नजर आए। आइए देश के ऐसे चोर बाजारों के बारे में जानते हैं।

पुदुपेट्टई, चेन्नई

सेंट्रल चेन्नई में स्थित ऑटो नगर में पुरानी चोरी की कारों को मॉडिफाइड करते हैं। यहां हजारों की संख्या में दुकानें हैं। ये दुकानें गाड़ियों के ओरिजिनल पार्ट्स और कार को बदलने के लिए फेमस हैं। इन्हें इस काम में इंटरनेशनल एक्सपर्टीज है। यहां गाड़ियों के तमाम स्पेयर पार्ट्स लेकर कार मॉडिफाई का सामान और सर्विस मिलती है। ये चोर बाजार गाड़ियों को बदलने का सबसे सस्ता जरिया है।

इस मार्केट में कई बार पुलिस की रेड पड़ चुकी है लेकिन तब भी यहां यह काम बंद नहीं हुआ। यह मार्केट एन्नोर ट्रेन स्टेशन से एक किलोमीटर दूर है। यह सुबह 10 बजे से शाम के 6 बजे तक खुली रहती है। यहां अपनी गाड़ी या बाइक कभी भी पार्क ना करेें। हो सकता है कि आपकी अपनी गाड़ी के पार्ट्स मार्केट की दुकानों पर मिल जाएं।

चिकपेटे, बेंगलुरु

दिल्ली और मुंबई के चोर बाजार के मुकाबले बेंगलुरु कम फेमस है। यह मार्केट बेंगलुरु में चिकपेटे जगह पर संडे के दिन लगती है। यहां सेकंड हैंड गुड्स, ग्रामोफोन, चोरी के गैजेट, कैमरा, एंटीक इलेक्ट्रॉनिक आइटम और सस्ते जिम इक्विपमेंट मिलते हैं। यह मार्केट लोकल मार्केट की तरह ही है। यह मार्केट एक गांव की मार्केट की तरह संडे के दिन खुलती है। यह मार्केट बीवीके अयंगर रोड पर एवेन्यू रोड के पास लगती है।

चोर बाजार, मुंबई

मुंबई का चोर बाजार दक्षिण मुंबई के मटन स्ट्रीट मोहम्मद अली रोड के पास है। यह मार्केट करीब 150 साल पुरानी है। यह बाजार पहले शोर बाजार के नाम से शुरू हुआ था क्योंकि यहां दुकानदार तेज आवाज लगाकर सामान बेचते थे, जिसके कारण यहां काफी शोर रहता था। लेकिन अंग्रेज लोगों के शोर को गलत बोलने के कारण इसका नाम चोर बाजार पड़ गया। यहां के रेस्तरां और कबाब काफी फेमस है।

यहां जेब काटने वालों से सावधान रहिएगा। यह मार्केट रोजाना सुबह 11 बजे से शाम 7 बजे तक खुली रहती है। यहां के बारे में कहा जाता है कि मुंबई की यात्रा के दौरान क्वीन विक्टोरिया का सामान शिप में लोड करते हुए चोरी हो गया था। वही सामान बाद में मुंबई के चोर बाजार में मिला।

चोर बाजार, दिल्ली

यह देश का सबसे पुराना चोर बाजार है। पहले यह संडे मार्केट के तौर पर लाल किले के पीछे लगता था। अब यह दरियागंज में नावेल्टी ऑफ जामा मस्जिद के पास लगता है। यह बाजार मुंबई से अलग है। इसे कबाड़ी बाजार भी कहा जाता है। यहां हार्डवेयर से लेकर किचन इलेक्ट्रॉनिक आइटम भी मिल जाते हैं।

यह मार्केट जामा मस्जिद के पास संडे के दिन लगती है। यहां खरीदते समय प्रोडक्ट जांच लें क्योंकि जैसा दुकानदार कहते हैं वैसा प्रोडक्ट नहीं निकलता है। यहां के लिए एक कहानी प्रचलित है कि एक आदमी ने यहां गाड़ी पार्क की थी। उसे अपनी गाड़ी के टायर दुकान में बारगेनिंग करते समय मिले।

सोती गंज, मेरठ

यूपी के मेरठ में सोती गंज मार्केट काफी फेमस है। इस मार्केट को चोरी की गाड़ियों और स्पेयर पार्ट्स का गढ़ माना जाता है। यहां सभी गाड़ियों के ऑटो पार्ट्स मिल जाएंगे। यहां चोरी, पुरानी और एक्सीडेंट में खराब हुई गाड़ियां आती है। मेरठ की सोती गंज मार्केट एशिया की सबसे बड़ी स्क्रैप मार्केट भी है। यह मार्केट मेरठ सिटी में सुबह 9 बजे से शाम को 6 बजे तक खुली रहती है।

यहां सामान खरीदने के लिए आपको सही डीलर मिलना जरूरी है। सोती गंज में 1979 की एंबेस्डर का ब्रेक पिस्टन, 1960 की बनी महिंद्रा जीप क्लासिक का गियर बॉक्स और वर्ल्ड वॉर सेकंड के विलेज जीप के टायर भी मिल जाएंगे। अब आप हमें कमेंट करके बताइए कि आप इन चोर बाजारों में से किस बाजार में गए हुए हैं।