मुखिया की लड़ाई में उलझी कांग्रेस, वसुंधरा को खंडित जनादेश की उम्मीद…

0
0

विधानसभा चुनाव का परिणाम मंगलवार को आएगा,लेकिन एग्जिट पोल से उत्साहित कांग्रेस के

दिग्गजों ने दिल्ली में ड़ेरा जमा लिया है।

अब तक कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत और पीसीसी अध्यक्ष सचिन पायलट के

बीच ही सीएम पद को लेकर जोर अजमाइश चल रही थी, लेकिन सोमवार को राज्य विधानसभा

में विपक्ष के नेता रामेश्वर डूडी ने भी “जाट,किसान मुख्यमंत्री “का मुद्दा उठाते हुए अपना दावा

पेश किया है।

वहीं पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ.सी.पी.जोशी और डॉ.गिरिजा व्यास भी खुद के लिए संभावनाएं तलाशने

में जुटे है।

उधर सीएम वसुंधरा राजे एग्जिट पोल पर अभी भी विश्वास नहीं कर रही है।

वसुंधरा राजे का मानना है कि राज्य में खंडित जनादेश मिलेगा।

कांग्रेस के सत्ता में की उम्मीद के चलते सभी बड़े नेता पिछले तीन दिन से दिल्ली में

डेरा डाले हुए है।

सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच सीएम पद को लेकर अंदरखाने मची खिंचतान

में दोनों ही नेता सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मिल चुके है।

अब रामेश्वर डूडी ने भी राहुल गांधी से समय मांगा है ।

रामेश्वर डूडी समर्थक जाट नेता सोमवार को दिल्ली पहुंचे है।

ये नेता दिल्ली में राहुल गांधी के साथ ही अहमद पटेल,प्रदेश प्रभारी राष्ट्रीय महासचिव अविनाश

पांडे और गुलाम नबी आजाद सहित अन्य नेताओं से मिलकर “जाट,किसान मुख्यमंत्री ” को

लेकर राज्य की पुरानी मांग पूरी करने का आग्रह करेंगे।

रामेश्वर डूडी समर्थकों ने अन्य राज्यों के जाट नेताओं से भी सहयोग मांगा है।

रामेश्वर डूडी समर्थकों के वीडियो भी मोबाइल पर वायरल हो रहे है।

गहलोत और पायलट ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मिलकर चुनाव का फिडबैक देने

के बहाने अपनी दावेदारी भी जता दी है ।

राज्य के अधिकांश युवा नेता सचिन पायलट को सीएम बनाए जाने के पक्ष में है।

ये नेता विभिन्न माध्यमों से दिल्ली तक अपनी बात पहुंचाने में जुटे है।