विश्व कुश्ती चैंपियनशिप: फाइनल में हारे बजरंग, सिल्वर से करना पड़ा संतोष

0
9

बुडापेस्ट, प्रेट्र : भारत के स्टार पहलवान बजरंग पूनिया सोमवार को विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में पुरुषों के फ्री स्टाइल के 65 किग्रा भार वर्ग के फाइनल मुकाबले में जापानी पहलवान ताकुतो ओतोगुरो से हारकर रजत पदक जीत पाए। 19 वर्षीय ताकुतो स्वर्ण के साथ ही अपने देश के सबसे युवा विश्व चैंपियन भी बन गए। उनसे पहले 1974 में 20 वर्ष की उम्र में युजी ताकदा ने स्वर्ण पदक जीता था।

आतोगुरो ने गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स और जकार्ता एशियन गेम्स के स्वर्ण पदक विजेता बजरंग को 16-9 से हराकर उनका स्वर्ण जीतने का सपना तोड़ दिया। बजरंग ने 2013 विश्व चैंपियनशिप में 60 किग्रा में कांस्य पदक जीता था, लेकिन इस बार उन्होंने पदक का रंग बदल दिया।

वह इस चैंपियनशिप में दो पदक जीतने वाले पहले भारतीय बने। हालांकि, विश्व चैंपियनशिप में भारत के लिए स्वर्ण पदक सिर्फ दोहरे ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार ने ही जीता है, जिन्होंने 2010 में मास्को में 66 किग्रा में यह कमाल किया था। बजरंग यदि स्वर्ण जीत जाते तो वह एक ही सत्र में तीन बड़े खिताब जीतने वाले वह अकेले भारतीय पहलवान बन जाते।

जापानी पहलवान ने बजरंग के खिलाफ 5-0 की बढ़त बनाई, लेकिन भारतीय ने भी पलटवार करते हुए इस अंतर को 4-5 से कम कर दिया। हालांकि, ब्रेक तक ताकुतो 7-6 से आगे रहे। दूसरे राउंड में ताकुतो 9-6 से आगे हो गए। इसके बाद जापानी पहलवान ने बजरंग के बायें पैर पर आक्रमण किया, जिसके बाद बजरंग के पास आक्रमण करने का ज्यादा मौका नहीं मिला।

बजरंग और सुशील के अलावा उदय चंद (कांस्य, 1961), रमेश कुमार (कांस्य, 2009) और नरसिंह यादव (2015) ने विश्व चैंपियनशिप में पदक जीता था। पुरुष फ्री स्टाइल में भारत को सिर्फ एक ही पदक हासिल हो पाया, जबकि अन्य भारतीयों ने निराशाजनक प्रदर्शन किया।’