शायरी:दोस्त

0
2

न मिले किसी का साथ तो हमें याद करना,
तन्हाई महसूस हो तो हमें याद करना….,
खुशियाँ बाटने के लियें दोस्त हजारो रखना,
जब ग़म बांटना हो तो हमें याद करना …..”