शेरो शायरी नए साल के लिए / Part 13

0
4

1. बेरी के बेर है, तोड़ना नही ,
ग्रीटिंग भेजा है प्यार से फाड़ना नही।

2. सूरज पूरव से निकलता है ,धरती पर चिराग बनकर ।
नया साल मुबारक हो फूलो का हर बनकर ।

3. फूलो पर तितली बैठती है,शबनम बनकर।
नया साल मुबारक हो फूलो का हर बनकर ।