शेरो -शायरी

0
0

उनकी चाहत में हम कुछ इस तरह बंधे है
की वो साथ भी नहीं और हमअकेले भी नहीं