शेरो -शायरी

0
4

आदत बदल सी गई है

वक्त काटने की,

हिम्मत ही नहीं होती

अपना दर्द बांटने की..!!