सचिन तेंदुलकर ने युवाओं को दी नसीहत, कहा- शॉर्ट कट लेने और धोखा देने से बचें

0
0

भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज और महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर ने युवाओं को नसीहत दी है। सचिन तेंदुलकर ने अपना उदाहरण देते हुए मंगलवार को युवाओं से कहा कि अगर ‘वे दुनिया के सामने अपनी कमजोरी नहीं लाना चाहते’ हैं तो शॉर्ट कट लेने और धोखा देने से बचें।

सचिन तेंदुलकर ने कहा, “मैंने अपनी जिंदगी में कई चीजें देखी हैं। जिसमें जो बात मुझे याद आती है वह है अनुशासन, एकाग्रता, ध्यान और योजना के बारे में बात करना, लेकिन इन सबसे ऊपर मुझे लगता है कि ऐसे कई मौके आए जब मैं अपनी उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा। मैं विफल भी हुआ, लेकिन खेल और सही टीम ने मुझे बिना किसी शॉर्ट कट के फिर से अपने पैरों पर खड़ा होने के बारे में सिखाया। आपके रास्ते में कई कड़ी चुनौती आएंगी, लेकिन अगर आप ईमानदारी से उनका सामना करेंगे तो दुनिया के सामने आपकी कमजोरी उजागर नहीं होगी।”

तेंदुलकर यहां इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइक गैटिंग और मुंबई क्रिकेट संघ (एमसीए) के अध्यक्ष विजय पाटिल के साथ ‘तेंदुलकर मिडिलसेक्स ग्लोबल अकादमी डीवाई पाटिल स्पो‌र्ट्स सेंटर’ के उद्घाटन के लिए पहुंचे थे। उन्होंने छात्रों को खेल और पढ़ाई के बीच सामंजस्य बैठाने की सलाह दी। तेंदुलकर ने कहा, ‘मैं कहना चाहूंगा कि दोनों चीजों पर ध्यान देना जरूरी है। सामंजस्य बैठाना जरूरी है। जब आप मैदान में होते हैं तो खेल पर ध्यान दें और जब आप पढ़ाई कर रहे होते हैं तो उसके बारे में ही सोचें। मैं अभिभावकों को संदेश देना चाहता हूं कि पढ़ाई या खेल को लेकर बच्चों पर दबाव न डालें।’

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइक गैटिंग मंगलवार को चार दिवसीय टेस्ट मैच करने के विचार का विरोध
करने वाले क्रिकेटरों में शामिल हो गए। उन्होंने कहा कि पांच दिवसीय टेस्ट में नतीजा निकलने की
संभावना अधिक है।
सचिन तेंदुलकर, भारतीय कप्तान विराट कोहली, श्रीलंकाई दिग्गज महेला जयवर्धने सहित कई बड़े
खिलाडि़यों ने पांच दिवसीय टेस्ट के पक्ष में बात की है।

गैंटिंग ने कहा, ‘टेस्ट क्रिकेट अपने आप में अनूठा है। हम हमेशा ऐसा कहते रहते हैं।
अफसोस की बात है कि इस खेल से जुड़े प्रशासक इसे खेलते नहीं हैं। उन्हें लगता है
कि मैच की योजना बनाने में
समस्या आती है। उन्हें समझ में नहीं आता है कि खेल का यह अनोखा प्रारूप क्या है।
‘ इंग्लैंड के लिए 79 टेस्ट खेल चुके मिडिलसेक्स के इस 62 वर्षीय पूर्व बल्लेबाज ने कहा,
‘यह ठीक है कि टेस्ट क्रिकेट की संख्या में कमी आएगी, लेकिन मैं इसे पांच दिन से कम
करने का विरोध करूंगा।’