सिलीगुड़ी में गत दिनों पुलिस पर पेट्रोल डालकर जलाने के मामले में आरोपित छात्र नेता सुकृति आइस को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसके बाद सिलीगुड़ी की राजनीति गरमाने की पूरी संभावना है।

0
7

सिलीगुड़ी [संवाददाता]। सिलीगुडी में गत 24 सितंवर को माकपा की रैली में सिलिगुड़ी आइसी समेत कई पुलिस अधिकारियों पर पेट्रोल डाल कर जलाने के प्रयास की आरोपित स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआइ) की नेता सुकृति आइस को हावड़ा से गिरफ्तार कर लिया गया है। गुरुवार को उसे ट्रांजिट रिमांड पर सिलिगुड़ी कोर्ट में पेश किया जाएगा। सिलिगुड़ी में हुई इस घटना के बाद से वह फरार थी। पुलिस लगातार आरोपितों की तलाश में लगी हुई है।

इसकी गिरफ्तारी के बाद अब पूजा के पूर्व सिलीगुड़ी की राजनीति गरमाने की संभावना है।इस मामले में मेयर सह माकपा विधायक अशोक नारायण भटाचार्य, जीवेश सरकार जय चक्रबर्ती समेत 106 लोगों के खिलाफ गैरजमानती धाराओं में मामला दर्ज हैं। बताया दें कि उत्तर दिनाजपुर के दारीभीत में कथित रूप से पुलिस की गोली से मारे गए दो छात्रों के परिजनों को न्याय दिलाने के लिए 24 सितंवर को माकपा की और से धिक्कार रैली निकाली गई थी।

रैली के दौरान माकपा पार्टी कार्यालय अनिल विश्वास भवन के निकट मुख्यमंत्री का पुतला जलाने की कोशिश की गई। आरोप है कि जब पुलिस वाले मुख्यमंत्री का पुतला प्रदर्शनकारियों से छीन रहे थे, तभी पुलिस पदाधिकारियों पर पेट्रोल डालकर जलाने की कोशिश की गई थी। पुलिस ने माकपा कार्यालय की घेराबंदी करते हुई दो माकपा नेता को पकड़ा। घटना की वीडियो फुटेज में दोनों के नहीं होने पर थाने से ही छोड़ दिया गया था। इस मामले को लेकर टीएमसी की ओर से नगर निगम बोर्ड बैठक का बहिष्कार करते हुए मेयर के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित करने की मांग की गई थी। इसको लेकर काफी हंगामा होता रहा था। टीएमसी पार्षदो ने धरना देकर भी इसका विरोध किया था।