सुस्‍त पड़ी ऑटो इंडस्‍ट्री की ग्रोथ की रफ्तार, 2019-20 में बिक्री बढ़ने की उम्मीद

0
0

नकदी संकट, वाहनों की ऊंची कीमतें और आगामी लोकसभा चुनावों के परिणाम की वजह से अनिश्चितता के चलते ऑटो इंडस्‍ट्री की ग्रोथ पर रोक लग गई है.वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम के मुताबिक देश में यात्री वाहनों की बिक्री में 2018-19 में मात्र 2.7 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई.

देश के ऑटो इंडस्‍ट्री की ग्रोथ पर ब्रेक लग गया है. वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम के मुताबिक देश में यात्री वाहनों की बिक्री में 2018-19 में मात्र 2.7 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई. सुस्‍त ग्रोथ की वजह नकदी संकट, वाहनों की ऊंची कीमतें और आगामी लोकसभा चुनावों के परिणाम को लेकर अनिश्चितता है. हालांकि आगामी वित्त वर्ष में यात्री वाहनों की बिक्री में इजाफे की उम्‍मीद की जा रही है.

सियाम के मुताबिक 2019-20 में दोपहिया वाहन बिक्री में 5 से 7 फीसदी, कॉमर्शियल वाहनों की बिक्री में 10 से 12 फीसदी और तिपहिया वाहनों की बिक्री में 7 से 9 फीसदी की वृद्धि की उम्मीद है. सियाम के अध्यक्ष राजन वडेरा ने बताया , ” यदि हम सकारात्मक पक्ष देखें तो हमने बिक्री में वृद्धि को बनाए रखा है भले ही यह ऊंचा इकाई अंक या दहाई अंक में न होकर एक अंक में काफी नीचे रही हो. किसी एक वित्त वर्ष में यह अब तक का सबसे अधिक बिक्री और उत्पादन का आंकड़ा है.”

वडेरा ने कहा, ” बीते साल हमें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा.  सबसे ज्यादा दिक्कत कच्चे माल की ऊंची कीमत की वजह से हुई.  इसके चलते कंपनियों को वाहनों का दाम बढ़ाने के लिए मजबूर होना पड़ा, जिससे मांग प्रभावित हुई. इसके अलावा, बीमा को अनिवार्य करना और वित्तपोषण कंपनियों में नकदी संकट से बिक्री प्रभावित हुई. ”

क्‍या कहते हैं आंकड़े

वित्‍त वर्ष 2018-19 में  कारों की घरेलू बाजार में बिक्री 2018-19 में 2.05

प्रतिशत बढ़कर 22,18,549 वाहन रही, जो कि 2017-18 में 21,74,024 वाहन थी.

वहीं , यूटिलिटी (उपयोगिता) वाहनों की ब्रिकी 9,41,461 वाहन रही.

2017-18 में यह आंकड़ा 9,22,322 वाहन पर था.

इस दौरान, 2.08 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई.

हालांकि, यात्री वाहनों का निर्यात 2017-18 में 7,48,366 वाहन से 9.64 फीसदी घटकर 2018-19 में 6,76,193 वाहन रह गया.

सियाम ने कहा कि चालू वित्त वर्ष में यात्री वाहन बिक्री में 3 से 5 प्रतिशत फीसदी वृद्धि की उम्मीद है.

2018-19 के दौरान मारुति सुजुकी इंडिया की यात्री वाहन बिक्री

5.25 फीसदी बढ़कर 17,29,826 वाहन रही

जबकि प्रतिद्वंद्वी कंपनी हुंडई मोटर इंडिया की यात्री वाहन बिक्री

1.68 फीसदी बढ़कर 5,45,243 इकाइयों पर रही.

महिंद्रा एंड महिंद्रा की यात्री वाहन बिक्री 2.21 फीसदी बढ़कर 2,45,351 वाहन रही.

अगर दोपहिया वाहनों की कुल बिक्री की बात करें तो 4.86

फीसदी बढ़कर 2,11,81,390 इकाई रही जो इससे पिछले वित्त वर्ष में 2,02,00,117 इकाइयों पर था.

कॉर्मशियल वाहनों की बिक्री 17.55 फीसदी बढ़कर 10,07,319 वाहन रही,

जो कि 2017-18 में 8,56,916 वाहन थी.