सोनभद्र नरसंहारः ऐसे खूनी बन गया गांव की जमीन का विवाद, जिसमें गिर गईं 9 लाशें

0
0

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में जमीनी विवाद को लेकर हुए नरसंहार से हर कोई दहल गया.

जमीन के इस विवाद में 9 लोग मौत की भेंट चढ़ गए. दो दर्जन से ज्यादा की जान पर बन आई.

आशंका है कि अभी कई और लोग मौत के मुंह में जा सकते हैं. 90 बीघा जमीन का ये विवाद नया नहीं है.

पिछले कई माह से दो पक्ष इस मामले को लेकर आमने-सामने थे.

विवाद की शुरूआत साल 2017 में उस वक्त हुई, जब घोरावल कोतवाली क्षेत्र के उभभा गांव में ग्राम प्रधान ने

खुद 90 बीघा जमीन खरीदी. तब प्रधान विरोधी एक पक्ष जमीन पर अपना कब्जा बता रहा था.

जिसकी वजह से प्रधान ने जमीन तो खरीद ली लेकिन कब्जा नहीं ले सका. इसी दौरान मामले में नया मोड़ आ

गया.

यूपी के डीजीपी ओपी सिंह के मुताबिक उस जमीन पर पहले से विवाद था. इससे पहले बिहार कैडर के एक

आईएएस अधिकारी ने वो विवादित जमीन खरीदी थी. जब गांव वालों को इस बात का पता चला तो उस वक्त भी

उन्होंने विरोध किया था. जमीन के कब्जे लेकर गांव का एक पक्ष अडिग था.

वो किसी को कब्जा नहीं लेने देता था.

ये भी पढ़ें: सोनभद्र में जमीनी विवाद को लेकर खूनी संघर्ष, 9 की मौत 25 से ज्यादा घायल

फिर प्रधान की एंट्री इस मामले में हो गई. तभी से उभभा गांव में आए दिन इस जमीनी विवाद के चलते छोटे-मोटे

मामले होते रहे. लेकिन दो साल पहले जमीन खरीदने वाले प्रधान का सब्र अब जवाब देने लगा.