हाथ टूटने से इस बॉलर का अलग था एक्शन, 40 साल तक कोई तोड़ नहीं पाया रिकॉर्ड

0
11

आज ही के दिन 59 साल पहले यानी 20 दिसंबर 1959 को जसु पटेल की ऐसी फिरकी चली कि कंगारू उलझते चले गए. जसु ने ग्रीन पार्क पर एक-एक कर 9 शिकार किए.

उन दिनों रिची बेनो की कप्तानी में ऑस्ट्रेलियाई टीम के हौसले बुलंद थे. 1959 में पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए वह टीम भारत दौरे पर थी. एशेज सीरीज में इंग्लैंड का 4-0 से सफाया और पाकिस्तान की धरती पर 2-0 से फतह के बाद भारत में भी उसने जीत के साथ शुरुआत की, जब दिल्ली टेस्ट में कंगारुओं ने भारत को पारी से हराया. सीरीज का अगला टेस्ट कानपुर में खेला गया. आज ही के दिन यानी 20 दिसंबर 1959 को ग्रीन पार्क पर जसु पटेल की ऐसी फिरकी चली कि कंगारू उलझते चले गए.

दरअसल, बचपन में पेड़ से गिरने से जसु का हाथ टूट गया था. इस वजह से उनका गेंदबाजी एक्शन कुछ ‘अलग’ था. ऑफ स्पिनर जसु ने ग्रीन पार्क पर एक-एक कर 9 शिकार किए और पहली पारी में ऑस्ट्रेलियाई टीम 219 रनों पर सिमट गई. 35.5 ओवर, 16 मेडन, 69 रन, 9 विकेट के साथ जसु का भारत के टेस्ट इतिहास में सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी विश्लेषण रहा. उनका यह रिकॉर्ड अगले 40 साल तक कायम रहा, जब दिग्गज लेग स्पिनर अनिल कुंबले ने 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ सभी 10 विकेट चटकाए. पारी में 9 विकेट लेने की बात करें, तो जसु से पहले सुभाष गुप्ते ने 1958 में कानपुर में ही वेस्टइंडीज के खिलाफ 9 विकेट (34.3-11-102-9) चटकाए थे.

1. अनिल कुंबले: 26.3 ओवर, 9 मेडन, 74 रन, 10 विकेट- 1999 विरुद्ध पाकिस्तान

2. जसु पटेल: 35.5 ओवर, 16 मेडन, 69 रन, 9 विकेट- 1959 विरुद्ध ऑस्ट्रेलिया

3. कपिल देव: 30.3 ओवर, 6 मेडन, 83 रन, 9 विकेट- 1983 विरुद्ध वेस्टइंडीज

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here