हार्दिक पंड्या- केएल राहुल की तरह 82 साल पहले भी ऐसे ही लौटाए गए थे ये भारतीय क्रिकेटर

0
1

KL Rahul and Hardik Pandya Controversy: हार्दिक पंड्या और केएल राहुल का मामला पिछले 82 वर्षों में केवल दूसरी घटना है जबकि भारतीय क्रिकेटरों को दौरे के बीच स्वदेश भेजा जाएगा.

KL Rahul and Hardik Pandya Controversy: भारतीय क्रिकेट में

खिलाड़ियों से जुड़े विवाद पहले भी होते रहे हैं,

लेकिन हार्दिक पंड्या और केएल राहुल का मामला पिछले 82 वर्षों में केवल दूसरी घटना है जबकि भारतीय क्रिकेटरों को दौरे के बीच स्वदेश भेजा जाएगा.

वर्षों पहले 1936 में महान लाला अमरनाथ को तत्कालीन कप्तान

विजयनगरम के महाराज यानि विज्जी ने एक प्रथम श्रेणी मैच

के दौरान कथित अपमान के कारण भारत के इंग्लैंड दौरे के बीच से स्वदेश भेज दिया था.

विदेशी दौरों में कई बार अनुशासनात्मक मसले उठे लेकिन

भारतीय क्रिकेट के इतिहास में यह पहला अवसर है जबकि बोर्ड ने कार्रवाई की और दोषी खिलाड़ियों को स्वदेश लौटने के लिए कहा.

लाला अमरनाथ की विज्जी के साथ बहस मुख्य रूप से टीम की राजनीति

से जुड़ी थी और आम राय रही है कि ब्रिटिश भारत के तहत एक रियासत के शासक को अपनी योग्यता नहीं बल्कि पद के कारण कप्तानी मिली थी.

ईएसपीएनक्रिकइन्फो में जुलाई 2007 में प्रकाशित एक आलेख के अनुसार अमरनाथ क्षुद्र राजनीति का शिकार हुए थे.

पंड्या और राहुल का मामला एकदम से भिन्न है और उन्हें

महिलाओं के लिए आपत्तिजनक टिप्पणियां करने की कीमत चुकानी पड़ रही है.

भारतीय खिलाड़ी के दौरे के बीच से स्वदेश लौटने की एक

और घटना 1996 में घटी थी जब नवजोत सिंह सिद्धू कप्तान मोहम्मद अजहरूद्दीन से तीखी बहस के बाद दौरे से हट गए थे.

वह किसी को सूचित किए बिना चुपचाप निकल गये थे जिससे कमरे में उनके

साथी को टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण का मौका मिल गया. यह साथी कोई और नहीं बल्कि सौरव गांगुली थे,

जिन्होंने लार्ड्स में पदार्पण मैच में ही शतक जड़ा था.

आपको बता दें कि पंड्या और राहुल की ‘कॉफी विद करण’

कार्यक्रम में की गई आपत्तिजनक टिप्पिणयों के कारण बवाल मच गया था.

उन्हें सिडनी में शनिवार को होने वाले पहले वनडे मैच के लिए टीम में भी नहीं चुना गया था.

इससे पहले प्रशासकों की समिति (सीओए) के अध्यक्ष विनोद राय ने पीटीआई से कहा,

‘पंड्या और राहुल दोनों को जांच लंबित होने तक निलंबित किया गया है.’

बीसीसीआई सूत्रों ने कहा कि इन दोनों को औपचारिक जांच शुरू होने से पहले नए सिरे से कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा.

इन दोनों को स्वदेश बुलाने के बाद उनकी जगह ऋषभ पंत

और मनीष पांडे को टीम में शामिल किया जा सकता है.

बीसीसीआई सूत्रों ने कहा, ‘अगर विजय शंकर, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे या ऋषभ पंत में किन्हीं दो को ऑस्ट्रेलिया भेजा जाता है तो मुझे हैरानी नहीं होगी.’