10वीं और 12वीं की छात्रओं के अभिभावकों से अपने बच्चों को तीन घंटे का पेपर ढाई घंटे में करने को मिली सलाह।

0
0
10वीं और 12वीं की छात्रओं के अभिभावकों से अपने बच्चों को तीन घंटे का पेपर ढाई घंटे में करने को मिली सलाह।
10वीं और 12वीं की छात्रओं के अभिभावकों से अपने बच्चों को तीन घंटे का पेपर ढाई घंटे में करने को मिली सलाह।

कालकाजी स्थित वीर सावरकर सर्वोदय विद्यालय में शनिवार को मेगा पेरेंट्स टीचर मीटिंग (पीटीएम) का आयोजन किया गया। मीटिंग में शिक्षकों ने अभिभावकों को उनके बच्चों की परीक्षा की कॉपियां और रिपोर्ट कार्ड भी दिखाए। साथ ही उन्हें उनके बच्चे के मजबूत और कमजोर पक्ष के बारे में भी बताया। शिक्षकों ने बोर्ड कक्षाओं 10वीं और 12वीं की छात्रओं के अभिभावकों से अपने बच्चों को तीन घंटे का पेपर ढाई घंटे में करने का अभ्यास कराने के लिए भी कहा। इससे बच्चे को बोर्ड परीक्षा के दौरान मदद मिलेगी। अभिभावकों को यह भी बताया गया कि 10वीं और 12वीं कक्षा की छात्रओं की प्रायोगिक परीक्षा की तारीख 15 के बाद कभी भी आ सकती है।

शिक्षकों ने अभिभावकों को दी सलाह

शिक्षकों ने अभिभावकों को बताया कि यदि बच्चा पहले ही सैंपल पेपर को ढाई घंटे में करने का अभ्यास कर लेगा तो वह बोर्ड परीक्षा के दौरान आसानी से तीन घंटे में अपना पेपर पूरा कर लेगा। शिक्षकों ने कहा कि यदि अभिभावक बच्चों को समयबद्ध ढंग से तैयारी कराएं तो वे बोर्ड में अच्छे अंक ला सकते हैं।

पीटीएम कराना अच्छा प्रयास

अभिभावकों का कहना था कि पीटीएम कराना सरकार का अच्छा प्रयास है। इससे हमें अपने बच्चे की स्कूली गतिविधियों के बारे में पता चलता है। विद्यालय की प्राचार्या अंजू मल्होत्र ने कहा कि हमारा फोकस अच्छे अंकों के साथ ज्यादा से ज्यादा बच्चों को पास कराना है। स्थानीय विधायक अवतार सिंह कालका भी पीटीएम का निरीक्षण करने पहुंचे।

फरवरी से शुरू होगी बोर्ड की परीक्षाएं
बता दें कि इस साल फरवरी से 10 वीं और 12 वीं के बोर्ड की परीक्षाएं शुरू होगी। इसको लेकर छात्रों मोटिवेड करने लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कार्यक्रम मन की बात में छात्रों को मनोबल बढ़ाएंगे। इससे पहले पीएम मोदी परीक्षा से पहले छात्रों का मनोबल बढ़ा चुके हैं।