18 साल बाद एशेज के इतिहास में हुआ ऐसा, एक जीत ने बचाई पेन की कप्तानी !

0
1
18 साल बाद एशेज के इतिहास में हुआ ऐसा, एक जीत ने बचाई पेन की कप्तानी !

इंग्लैंड के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया (England vs Australia) ने मैनचेस्टर टेस्ट जीतकर एशेज सीरीज (The Ashes) पर अपना कब्जा बरकरार रखा। इस एक जीत के साथ ही ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट कप्तान टिम पेन (Tim Paine) ने वो कर दिखाया जो पूर्व दिग्गज रिकी पोंटिंग और माइकल क्लार्क नहीं कर पाए। पेन ने 18 साल के एशेज इतिहास को बदला और अपनी कप्तानी को भी नई दिखा दी।

ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर में खेले गए एशेज सीरीज (The Ashes) के चौथे टेस्ट में 185 रन से जीत हासिल की। ऑस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी 2 विकेट पर 186 रन बनाकर घोषित की थी। इंग्लैंड के सामने 383 रन का लक्ष्य था लेकिन पूरी इंग्लिश टीम महज 197 रन ही बना पाई और मुकाबला मेहमान टीम ने अपने नाम किया। 2-1 की अजेय बढ़त के साथ ही यह तय हो गया कि ऑस्ट्रेलिया की टीम अब सीरीज में हारेगी नहीं मतलब ट्रॉफी पर उनका कब्जा बरकरार रहेगा।

18 साल बाद ऐसा मौका पहली बार आया है जब ऑस्ट्रेलिया यहां से सीरीज हारे बिना लौटेगी। स्टीव वॉ की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया ने साल 2001 में इंग्लैंड को 4-1 से हराया था। इसके बाद 2005, 2009, 2013 और 2015 की एशेज सीरीज में इंग्लैंड में खेलते हुए हार मिली थी। इस जीत ने पेन कि कप्तानी को एक नई दिशा दी है। खराब फॉर्म से जूझ रहे पेन की कप्तानी पर काफी सवाल उठ रहे थे लेकिन इस कारनामें के बाद अब आलोचकों को जवाब मिल गया होगा।