5जी नेटवर्क पर भारत, अमेरिका और इजरायल कर रहे मिलकर काम ..

0
1
5g

वाशिंगटन, प्रेट्र। भारत, इजरायल और अमेरिका ने विकास वाले क्षेत्रों तथा अगली पीढ़ी की उभरती
प्रौद्योगिकियों में आपसी सहयोग से काम करना शुरू कर दिया है। तीनों देश पारदर्शी, खुले, विश्वसनीय
और सुरक्षित फाइवजी संचार नेटवर्क पर भी काम कर रहे हैं। बेंगलुरु, सिलिकॉन वैली और तेल अवीव
में इस टेक्नोलॉजी पर शोध होगा। यह तीनों ही शहर अपने-अपने देश में टेक्नोलॉजी हब के तौर पर
जाने जाते हैं।

बता दें कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जुलाई 2017 में इजरायल गए थे और उन्होंने दोनों देशों के
लोगों के बीच संपर्क को वरीयता देने की बात कही थी। प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में त्रिपक्षीय पहल इसी का हिस्सा
है। अंतरराष्ट्रीय विकास के लिए अमेरिकी एजेंसी (यूएसएआइडी) की उप-प्रशासक बोनी ग्लिक ने कहा
कि फाइवजी में आपसी सहयोग तो बड़े कदमों की दिशा में सिर्फ पहला कदम है। ग्लिक ने कहा, ‘हम
विज्ञान तथा शोध और विकास तथा अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकियों में मिलकर काम कर रहे हैं। इस
भागीदारी के जरिये हम आधिकारिक तौर पर आपस के प्रगाढ़ होते संबंधों की पुष्टि कर रहे हैं।

इससे पहले ग्लिक ने अमेरिका-भारत-इजरायल के बीच वर्चुअल शिखर बैठक को संबोधित करते हए
कहा कि हम दुनिया की विकास से जुड़ी चुनौतियों को हल करने के लिए इन भागीदारों के साथ काम
कर काफी रोमांचित हैं। बैठक को भारत में इजरायल के राजदूत रॉन मलका तथा उनके समकक्ष संजीव
सिंगला ने भी संबोधित किया। ग्लिक ने कहा, ‘जिस एक क्षेत्र में हम सहयोग कर रहे हैं वह है डिजिटल
नेतृत्व तथा नवोन्मेषण। विशेषरूप से हमारा सहयोग अगली पीढ़ी की फाइवजी प्रौद्योगिकी पर केंद्रित है।