जून में घरेलू विमान यात्रियों की आवाजाही 18 फीसदी बढ़ी

0
41

नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) के आंकड़ों के मुताबिक, समीक्षाधीन माह में घरेलू विमानन कंपनियों से कुल 1.13 करोड़ यात्रियों ने आवाजाही की, जबकि साल 2017 के जून में यह आंकड़ा 95.68 था.

नई दिल्ली: 

देश के घरेलू विमान यात्रियों की आवाजाही जून में 18.36 फीसदी बढ़ गई है. आधिकारिक आंकड़ों से मंगलवार को यह जानकारी मिली. नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) के आंकड़ों के मुताबिक, समीक्षाधीन माह में घरेलू विमानन कंपनियों से कुल 1.13 करोड़ यात्रियों ने आवाजाही की, जबकि साल 2017 के जून में यह आंकड़ा 95.68 था.

हालांकि, क्रमिक आधार पर यात्रियों की आवाजाही में 5.04 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. यह संख्या मई में 1.19 करोड़ थी, जबकि अप्रैल में 1.15 करोड़ थी. डीजीसीए ने बताया कि जनवरी-जून (2018) की अवधि में यात्रियों की आवाजाही में 22 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है.

डीजीसीए ने अपनी मासिक घरेलू यात्री आवाजाही रिपोर्ट में कहा, “इस साल जनवरी-जून की अवधि में घरेलू विमानन कंपनियों द्वारा कुल 6.84 करोड़ यात्रियों ने आवाजाही की, जबकि पिछले साल की समान अवधि में यह संख्या 5.61 करोड़ थी. इस लिहाज से इसमें 21.95 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है.”

आंकड़ों से पता चलता है कि किफायती विमानन कंपनी स्पाइस जेट का सबसे अधिक पैसेंजर लोड फैक्टर (पीएलएफ) रहा, जोकि 93.3 फीसदी था. पीएलएफ से ही विमानन कंपनियों की क्षमता के दोहन को मापा जाता है.

COMMENT

स्पाइसजेट की मुख्य बिक्री और राजस्व अधिकारी शिल्पा भाटिया ने कहा, “लगातार 39वें महीने हमारा पीएलएफ देश में सबसे अधिक रहा है. इसने भारतीय विमानन बाजार में ब्रांड वरीयता में एक नया बेंचमार्क स्थापित किया है.”