IND vs AUS, 2nd ODI: कोहली की एक और ‘विराट उपलब्धि’, क्रिस गेल को दिया चैलेंज

0
6

लेकिन एक बात साफ है कि गेल चाहे कितनी भी धुआंधार पारियां खेल रहे हों, लेकिन इस मामले में वह विराट कोहली से नहीं ही जीत पाएंगे.

नागपुर:

भारतीय कप्तान विराट कोहली (#ViratKohli) ने नागपुर में ऑस्ट्रेलिया (#INDvAUS #INDvsAUS) के खिलाफ दूसरे वनडे (IND vs AUS, 2nd ODI) में एक और बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली. भारतीय क्रिकेट में कोहली से पहले सचिन, सौरव और द्रविड़ सहित कुछ ही बल्लेबाज यह कारनामा कर सके हैं. और अब इस स्पेशल रिकॉर्ड के मामले में विराट की रेस विंडीज के आतिशी बल्लेबाज क्रिस गेल (#ChrisGayle) के साथ लग गई है. लेकिन एक बात साफ है कि गेल चाहे कितनी भी धुआंधार पारियां खेल रहे हों, लेकिन इस मामले में वह विराट कोहली से नहीं ही जीत पाएंगे.  पर कोहली को अपने तीनों भारतीय वरिष्ठों को पीछे छोड़ने के लिए लंबा सफर तय करना होगा.

बता दें कि जब बात वनडे में सबसे ज्यादा पचासे जड़ने की आती है, इस बाबत अभी भी कई साल पहले क्रिकेट को अलविदा कह चुके मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का ही नंबर आता है. सचिन के 463 वनडे मैचों में 96 अर्द्धशतक हैं, तो वहीं उनके बाद राहुल द्रविड़ दूसरे नंबर पर हैं.

टेस्ट क्रिकेट के बल्लेबाज के रूप में मशहूर रहे द्रविड़ ने 344 मैचों में 83 अर्द्धशतक जड़े.

सबसे ज्यादा पचासे जड़ने में सौरव गांगुली द्रविड़ के बाद तीसरे ऐसे भारतीय बल्लेबाज हैं, जिन्होंने सबसे ज्यादा अर्द्धशतक जड़े.

सौरव गांगुली के खाते में 72 अर्द्धशतक जमा हैं.

गांगुली के बाद कई ऐसे भारतीय बल्लेबाज हैं, जिन्होंने विराट कोहली से ज्यादा पचासे जड़े हैं.

इनमें युवराज सिंह (52) और अजहरुद्दीन (58) हैं, लेकिन जहां कोहली आज खड़े हैं,

वहां कोहली का इनसे बचना नामुकिन है.

नागपुर में कोहली ने अपने वनडे करियर का अर्द्धशतकों का अर्द्धशतक जड़ते हुए फिलहाल फॉर्म

में चल रहे क्रिस गेल को चैलेंज जरूर दे दिया है.

गेल इंग्लैंड के खिलाफ हाल ही में पांच मैचों की सीरीज के आखिरी वनडे में सिर्फ 19 गेंदों पर

अर्द्धशतक जड़ विंडीज के सबसे तेज पचासा जड़ने वाले बल्लेबाज बने थे.

हाल ही में इंग्लैंड के गेंदबाजों की बखिया उधेड़ने वाले क्रिस गेल ने अभी तक 51 अर्द्धशतक जड़े हैं.

अब जबकि गेल ने यह ऐलान कर दिया है कि वह वर्ल्ड कप के बाद अपने संन्यास का फैसला बदल सकते हैं, तो यह एक देखने वाली बात होगी कि गेल इस रेस में विराट का कहां तक मुकाबला कर पाते हैं.