Union Budget 2021: पारंपरिक हलवा कार्यक्रम का आयोजन आज..

0
1
Union Budget 2021: पारंपरिक हलवा कार्यक्रम का आयोजन आज,

हम ब्लैंडेड एजुकेशन की बात कर रहे हैं, जिसमें ऑनलाइन लर्निंग का खास महत्व है। इस तरह बच्चों का इंटरनेट पर एक्सपोजर बढ़ा है। ऐसे में फेक कंटेंट की समस्या हमारे सामने आ सकती है। एक मीडिया संस्थान का कुलपति होने के नाते मेरा मानना है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) की तरह ही राष्ट्रीय मीडिया साक्षरता मिशन (NMLM) की भी देश को आवश्यकता है। इससे फेक कंटेंट के बारे में लोगों को जागरूक किया जा सकता है और ऐसा करके भारत मीडिया साक्षरता मिशन लाने वाला विश्व का पहला देश बन जाएगा।

बजट पेश किए जाने से कुछ दिन पहले पारंपरिक तौर पर हलवा कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। हलवा कार्यक्रम से औपचारिक तौर पर बजट से जुड़ी कई गतिविधियों की शुरुआत होती है।

अधिकारियों ने बताया कि इस समारोह के बाद बजट निर्माण की प्रक्रिया में शामिल रहे कर्मचारियों को बजट पेश होने तक नॉर्थ ब्लॉक के बेसमेंट में रखा जाएगा।

एक अधिकारी ने बताया, ”वे अधिकारी वित्त मंत्री के संसद में बजट पेश करने के बाद ही बेसमेंट से निकल सकते हैं। वार्षिक बजट पेश किए जाने से पहले किसी भी तरह की लीक से बचने के लिए ऐसा किया जाता है।”

इस साल कोविड-19 की वजह से बजट की कागज पर प्रिंटिंग नहीं होगी। इसके अलावा आर्थिक समीक्षा (इकोनॉमिक सर्वे) की भी कागजों पर छपाई नहीं होगी। आर्थिक समीक्षा 29 जनवरी को संसद के पटल पर रखी जाएगी। इस साल ये दोनों दस्तावेज इलेक्ट्रॉनिक रूप में सासंदों को दिए जाएंगे।

इससे पहले मंगलवार को लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बताया था कि बजट सत्र के पहले चरण की शुरुआत 29 जनवरी को होगी और वह 15 फरवरी तक जारी रहेगी। दूसरे चरण की शुरुआत आठ मार्च को होगी और यह चरण आठ अप्रैल तक चलेगा।