• 41 C
    New Delhi
व्यापार

होम लोन पर घर लेना चाहते हैं, तो सही लेंडर चुनने के लिए आजमाएं ये 10 टिप्स

( words)

फेस्टिव सीजन चल रहा है। बड़ी संख्या में लोग नया घर खरीदना चाहते हैं। आप भी अगर ऐसे लोगों में शामिल हैं, तो आपको अच्छे मकान के चयन के साथ सही लेंडर का चुनाव भी सोच-समझकर करना चाहिए। मैं कोशिश करूंगा के आपको ठीक से समझाने के लिए इन चीजों को सरल तरीके से स्पष्ट करूं। नीचे दी गई कुछ चीजें हमें जाहिर रूप से मालूम पड़ती हैं लेकिन हमेशा बुनियादी पहलुओं से शुरुआत करना और बाद में विस्तार से चर्चा करना अच्छा होता है।

जैसे आप व्यवहार, आदतों और पारिवारिक पृष्ठभूमि के आधार पर अपने दोस्तों का चुनाव करते हैं, उसी तरह आपके लिए आपके लेंडर कंपनी की प्रतिष्ठा सबसे महत्वपूर्ण होती है। यह लंबी अवधि का रिश्ता होता है। इसलिए इन विवरणों पर गौर कीजिए। वह कितने दिन से कारोबार में हैं? क्या वह नीतिपरक और पेशेवर रहे हैं। वे किस तरह के क्लाइंट्स को सर्विस देते हैं। इन सवालों के जवाब से लेंडर कंपनी के जल्द चुनाव में हमें मदद मिलती है। 

2. आपकी लोन एलिजिबिलिटी क्या है?

सामान्य नियम- पारंपरिक बैंक कड़े पात्रता शर्त रखते हैं। वहीं, हाउसिंग फाइनेंस कंपनीज (HFCs) और नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनीज (NBFC) के पात्रता शर्त थोड़े नरम होते हैं। कुछ बैंक सिर्फ आपके आय के दस्तावेजों पर गौर करते हैं, दूसरी ओर कुछ बैंक आपके रहन-सहन के स्तर, अन्य स्रोत से होने वाली कमाई, संभावित खर्चे इत्यादि से जुड़े विवरण भी एकत्र करते हैं। इससे उन्हें आपके भुगतान की क्षमता को समझने में मदद मिलती है।

यहां यह बताने की जरूरत नहीं है कि अगर आप किसी चीज का बहुत अच्छे तरीके से जांच करते हैं तो इससे आपको बेहतर लोन एलिजिबिलिटी और अधिक LTV मिल जाता है। आप इंटरनेट के जरिए फ्री में अपनी लोन एलिजिबिलिटी चेक कर सकते हैं। इससे आपको लोन अप्लाई करने से पहले एलिजिबिलिटी के बारे में बेहतर अनुमान मिल जाएगा।

3. ब्याज की दर क्या है?

इस बात की जानकारी प्राप्त करना काफी सरल है। ब्याज दर किसी भी लेंडर कंपनी के चुनावी घोषणापत्र की तरह होता है दरअसल, यह पूरी तस्वीर को नहीं दिखाता है।, आप कम ब्याज दर के लिए जा सकते हैं लेकिन आपको लोन की अवधि के बाद कुल देय ब्याज के बारे में जानकारी होनी चाहिए। साथ ही यह भी चेक करना चाहिए कि बैंक फ्लोटिंग ब्याज दर पर लोन की पेशकश कर रहा है या निर्धारित दर पर।, आम तौर पर रिड्युसिंग फ्लोटिंग ब्याज दर आपके लिए बेहतर साबित होता है।

4. क्या आप आसानी से प्री-पेमेंट कर सकते हैं?

किसी भी लोन के बारे में एक बात शाश्वत सत्य है कि आप जितनी अवधि के लिए लोन लेंगे, आपको उतना ही अधिक ब्याज का भुगतान करना होगा। अगर आप लोन का भुगतान काफी लंबे समय में करते हैं तो इस बात की संभावना काफी अधिक होती है कि आपको काफी अधिक ब्याज का भुगतान करना होगा। पैसे की बचत करने का स्मार्ट तरीका है लोन को जल्दी खत्म करना। आप नियमित तौर से छोटी-छोटी रकम के प्री-पेमेंट या एकमुश्त राशि के भुगतान के जरिए ऐसा कर सकते हैं। लोन लेने के समय यह सुनिश्चित करना चाहिए कि होम लोन के प्री-पेमेंट की सुविधा उपलब्ध हो। अधिकतर बैंक प्री-पेमेंट्स को प्रोत्साहित नहीं करते हैं क्योंकि इससे उन्हें घाटा होता है।

5. क्या उनके शुल्क और फी स्ट्रक्चर पारदर्शी हैं?

पूरी लोन अवधि के दौरान लगने वाले फीस से जुड़े विवरण आपके पास लिखित में मौजूद होने चाहिए। इनमें प्रोसेसिंग फीस, लीगल और टेक्निकल फीस, मार्गेज फीस, फोरक्लोजर चार्ज इत्यादि शामिल होंगे। आपको लोन लेने से पहले अधिकतम स्पष्टता हासिल करने के लिए निश्चित रूप से ये चीजें पूछनी चाहिए।

6. क्या आपको डिजिटल एक्सेस मिल रहा है?

 

अधिकतर कंपनियां अपने ग्राहकों की सुविधा के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म पर शिफ्ट हो रही है। यह आज के समय में ऑफरिंग का बुनियादी तरीका बन गया है। होम लोन अप्लाई करने की प्रक्रिया सरल होनी चाहिए। इसके साथ ही मोबाइल ऐप पर लोन स्टेटस चेक करने की सुविधा भी होनी चाहिए। EMI के भुगतान करना, अकाउंट स्टेटमेंट प्राप्त करना या ऐप के जरिए क्वेरी रेज करने जैसी सुविधाएं होनी चाहिए।

7. क्या प्रक्रिया आसान है?

 

लोन प्रोसेस से जुड़ी औपचारिकताएं और डॉक्युमेंटेशन इंडस्ट्री के लगभग सभी लेंडर्स की एक जैसी हैं। हालांकि, लोन की स्वीकृति में लगने वाले समय में अंतर आ सकता है। आम तौर पर 'आसान डॉक्युमेंटेशन' के रूप में प्रचारित टर्म वास्तव में सरल नहीं होता है। ऐसे लेंडर को चुनिए, जो तेज प्रोसेस को अपनी खूबी बताते हैं। आप सभी अनिवार्यताओं को एकसाथ पूरा कर लीजिए और उसके बाद पेपरवर्क के लिए जाइए या ऐसे लेंडर को चुनिए जो आपके दस्तावेजों की तुलना में आप पर ज्यादा भरोसा करते हों।

 

8. क्या आपका सारा काम एक कॉन्टैक्ट से हो सकता है?

आपका लेंडर आपकी सभी जरूरतों को पूरा करने में सक्षम होना चाहिए और आपको एक ही प्वाइंट ऑफ कॉन्टैक्ट की सुविधा मिलनी चाहिए। इससे आपको ज्यादा भाग-दौड़ नहीं करनी पड़ेगी और कोई भी जानकारी या औपचारिकता के लिए आप उस व्यक्ति से बात कर सकते हैं।

9. क्या आपके द्वारा गिरवी किए गए डॉक्युमेंट्स सुरक्षित हैं?

 

आपके  गिरवी कराए गए दस्तावेज आपके मकान पर आपके दावे की पुष्टि करते हैं। इसकी सुरक्षा काफी पुख्ता होनी चाहिए। आपको अपने लेंडर्स से यह पूछना चाहिए कि वह डॉक्युमेंट्स को लेकर किस तरह की एहतियात बरतते हैं ताकि लोन की अवधि पूरी होने के बाद कागजी कार्यवाही आपके लिए सिरदर्द ना बने। आदर्श रूप से यह एक सेफ्टी वॉल्ट होना चाहिए, जो सभी तरह के मौसम के लिए अनुकूल हो।

10. क्या आप होम लोन इंश्योरेंस ले रहे हैं?

 

यह सवाल भले ही आखिरी है लेकिन बहुत महत्वपूर्ण है। अपने परिवार को किसी भी आकस्मिक परिस्थिति से सुरक्षित रखना बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसे में हमेशा इस बात की सलाह दी जाती है कि अपनी बकाया देनदारियों के लिए एक इंश्योरेंस लेना चाहिए। इससे आपके परिवार का भविष्य सुरक्षित रहता है और आपके परिवार के ऊपर एक छत बरकरार बनी रहती है। अब आपके लिए जरूरी लिस्ट तैयार हो गई है। इस आर्टिकल को सुरक्षित रखें। इससे आपके मकान खरीदने का सफर आसान हो जाएगा।

You Might Also Like...

Sign Up for Our Newsletter

Subscribe now to get notified about Breaking News
from Live4India!