• 41 C
    New Delhi
Corona Virus India

मंत्रालय ने यह भी बताया कि टीकाकरण के लिए पहले से रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता नहीं है।

( words)

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर देश में कई तरह के मिथक हैं। जैसे- कोरोना वैक्सीन से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं, आनलाइन रजिस्ट्रेशन के बिना टीकाकरण नहीं और ग्रामीण इलाकों में टीकाकरण संबंधी सुविधाओं में कमी समेत कई ऐसी बातें हैं जिन्हें लेकर लोगों के मन में गलतफहमियां हैं। इन्हीं सब गलतफहमियों को दूर करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को तथ्य पेश किए। मंत्रालय ने बताया कि अबतक करीब 23.5 करोड़ टीके की डोज दी जा चुकी हैं, जिनमें मौत का आंकड़ा 0.0002 फीसद है।

मिथक 1- टीकाकरण सेवाओं का लाभ लेने के लिए आनलाइन रजिस्ट्रेशन या प्री बुकिंग अनिवार्य
तथ्य- मंत्रालय ने बताया कि टीकाकरण के लिए पहले से रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता नहीं है। 18 साल या उससे ज्यादा उम्र का कोई भी शख्स सीधे वैक्सीनेशन सेंटर पर जाकर रजिस्ट्रेशन करवा सकता है और उसी दिन वैक्सीन भी ले सकता है। हालांकि यह स्लॉट की उपलब्धता पर निर्भर करता है।

मिथक 2- ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण के लिए ऑन-साइट रजिस्ट्रेशन और पंजीकरण के लिए सुविधाएं सीमित हैं।

तथ्य- ग्रामीण इलाकों में रजिस्ट्रेशन की सुविधाओं को लेकर पहले भी कई बार चिंता जताई जा चुकी है। इस पर केंद्रीय मंत्रालय ने जानकारी दी कि ग्रामीण इलाकों में रजिस्ट्रेशन के लिए कई सुविधाएं उपलब्ध हैं। लोग सीएससी के जरिए कोविन पर पंजीकरण करवा सकते हैं। इसके अलावा हेल्थ वर्कर्स या आशा से आन-साइट रजिस्ट्रेशन करवाकर अपने नजदीकी टीकाकरण केंद्र पर वैक्सीन लगवाई जा सकती हैं। वहीं, हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल करके भी अपनी बुकिंग करवा सकते हैं।

You Might Also Like...

Sign Up for Our Newsletter

Subscribe now to get notified about Breaking News
from Live4India!