• 41 C
    New Delhi
Travel

इस वीकेंड पर जरूर जाएं गुरुग्राम से जुड़ी इन जगहों पर

( words)

फरीदाबाद के बाद गुरुग्राम हरियाणा का दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला नजर है। पूरा वीकडे काम करने के बाद वीकेंड पर लोग घूमने का प्लान बनाते हैं। अगर आप भी इस वीकेंड कुछ एडवेंचर करने के बारे में सोच रहे हैं, तो क्यों न गुरुग्राम से कुछ बेहतरीन रोड ट्रिप्स की शुरुआत की जाए। रोड ट्रिप्स प्लान करने के बाद यकीन मानिए आपका ये वीकेंड यादगार बनने वाला है।

गुरुग्राम से सुल्तानपुर राष्ट्रीय उद्यान और पक्षी अभयारण्य

इस उद्यान में आप हरियाली के साथ-साथ साइबेरिया, यूरोप व मध्य एशिया से पलायन करने वाले विदेशी पक्षियों को देख पाएंगे। सुल्तानपुर नेशनल पार्क गुड़गांव से सबसे अच्छे रोड ट्रिप्स में से एक है, जिसे आप अपनी लिस्ट में सबसे ऊपर रख सकते हैं। इस पार्क में विभिन्न प्रकार के मैना, किंगफिशर, बत्तख, बगुले, चील, कठफोड़वा, कोयल और भी लगभग 250 प्रजातियों का घर है। आप यहां चार सींग वाले मृग, नीले बैल, हाथी और जंगली बिल्लियों जैसे जानवरों को भी देख पाएंगे। गुरुग्राम से इस उद्यान की दूरी लगभग 15 किलोमीटर है। यहां आप सुबह 7 बजे से 4:30 बजे के बीच घूम सकते हैं। भारतियों की फीस यहां 5 रुपए और विदेशियों की फीस 40 रुपए है।

गुरुग्राम से चंडीगढ़

इस शहर को बनाने का प्लान ले कॉर्बूसियर ने किया था, जो कि एक फ्रांसीसी-स्विस मूल के आधुनिकतावादी वास्तुकार थे। यहां आप सुखना झील पर बोटिंग कर सकते हैं, रॉक गार्डेन में तरह-तरह के गुलाब के फूलों को निहार सकते हैं और यहां के शानदार स्मारकों की फोटो खीच सकते हैं। पिंजौर गार्डन, सरकारी संग्रहालय और आर्ट गैलरी, टैरेस्ड गार्डन, थंडर जोन, बॉटनिकल गार्डन यहां के प्रमुख आकर्षण हैं। साथ ही यहां मोहाली क्रिकेट स्टेडियम को भी जरूर देखने जाएं। गुरुग्राम से चंडीगढ़ की दूरी 280 किलोमीटर है।

गुरुग्राम से ऋषिकेश

ऋषिकेश एक ऐसा शहर है जहां आपको शांति ओर आध्यात्मिकता से लेकर रोमांच और प्राकृतिक दृश्यों तक सब कुछ मिल देखने को मिल सकता है। ऋषिकेश को गुरग्राम से जाने वाले सबसे पसंदीदा रोड ट्रिप्स में गिना जाता है। अगर आप यहां के एडवेंचर एक्टिविटीज में शामिल होना चाहते हैं, तो यहां की रिवर राफ्टिंग और बंजी जंपिंग सबसे ज्यादा फेमस है। ट्रेकिंग, कयाकिंग, पैरासेलिंग, रैपलिंग और माउंटेन बाइकिंग भी यहां की मशहूर गतिविधियां हैं। राम झूला, नीलकंठ महादेव मंदिर, बीटल्स आश्रम, त्रिवेणी घाट, ऋषिकुंड, राजाजी राष्ट्रीय उद्यान, ऋषिकेश व्यू पॉइंट, बैराज झील और नीर गढ़ झरना यहां के प्रमुख आकर्षण हैं। गुरुग्राम से ऋषिकेश की दूरी 264 किमी है।

गुरुग्राम से नीमराना किला पैलेस 

नीमराना घूमने का मतलब ही नीमराना किला देखना है। राजसी ठाठ-बाट से लैस नीमराना किला यूं तो एकांत जगह है। फिर भी, कल्चरल और संगीतमय कार्य का सिलसिला दिल बहलाता रहता है। आर्ट एग्जीबिशन, डांस कॉन्सर्ट और शुभा मुद्गल जैसी गायन शख्सियतों के लाइव शो अक्सर होते रहते हैं। नीमराना किला 9 मंजिला है। 1464 के आसपास बना है। इस लिहाज से नीमराना किला देश का सबसे पुराना हेरिटेज रिजॉर्ट कहलाता है। यह करीब 25 एकड़ में फैला है। यहां मेहमानों को राजस्थानी और फ्रेंच व्यंजन परोसे जाते हैं। गुरुग्राम से नीमराना किला 90 किमी दूर है।

गुरुग्राम से अलवर, राजस्थान

राजस्थान के टाइगर गेट के रूप में लोकप्रिय, अलवर प्राचीन महलों का एक आकर्षक मिश्रण है, जो विभिन्न स्थापत्य शैली, प्रभावशाली किलों, विरासत हवेलियों, आकर्षक झीलों और साथ ही धार्मिक स्थलों को एक साथ जोड़ता है। प्रकृति और ऐतिहासिक जगहों में रुचि रखने वाले पर्यटक इस वीकेंड गुरुग्राम से अलवर तक के लिए रोड ट्रिप प्लान जरूर करें। वन्यजीव प्रेमी भी सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान में घूम सकते हैं। बाला किला किला, सिलिसर लेक पैलेस, मोती डूंगरी, केसरोली, सरिस्का पैलेस, नीलकंठ महादेव मंदिर, सिटी पैलेस यहां के प्रमुख आकर्षण हैं। गुरुग्राम से अलवर की दूरी 127 किमी है।

गुरुग्राम से आगरा

आगरा में ताजमहल के अलावा कई और यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल भी मौजूद हैं, जैसे आकर्षक फतेहपुर सीकरी और विशाल लाल किला, ये दोनों ही लाल बलुआ पत्थर से बने हुए हैं। सुंदर नक्काशीदार मकबरे, धार्मिक स्थल और शानदार उद्यान आपकी यात्रा को यादगार बनाने में कोई कमी नहीं छोड़ेंगे। बच्चों के लिए भी यहां कई वाटर पार्क मौजूद हैं। ताजमहल, लाल किला, इतिमाद-उद-दौला का मकबरा, मेहताब बाग, अकबर का मकबरा, जामा मस्जिद, चीनी का रौजा, अंगूरी बाग और ताज संग्रहालय यहां के प्रमुख आकर्षण हैं। गुरुग्राम से आगरा की दूरी 237 किमी है।

गुरुग्राम से ग्वालियर

ग्वालियर शहर गुड़गांव से सबसे अच्छी सड़क यात्राओं में से एक है। यहां आप इतिहास, विरासत और वास्तुकला का एक अच्छा खासा मिश्रण देख सकते हैं। 10वीं सदी का ग्वालियर किला एक विशाल संरचना है, जहां से पूरा शहर दिखाई देता है और यहां का जय विलास पैलेस म्यूजियम अपनी भव्यता की वजह से हर रोज आए पर्यटकों का दिल जीतता रहता है। ग्वालियर में जटिल नक्काशीदार मंदिर हर रोज सुबह शाम भक्तों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। सासबाहू मंदिर, ग्वालियर किला, गुजरी महल संग्रहालय, माधव राष्ट्रीय उद्यान, तानसेन का मकबरा, बटेश्वर मंदिर, गोपाल पर्वत, तेली का मंदिर और सूर्य मंदिर यहां के प्रमुख आकर्षण हैं। गुरुग्राम से ग्वालियर की दूरी 331 किमी है।

You Might Also Like...

Sign Up for Our Newsletter

Subscribe now to get notified about Breaking News
from Live4India!