• 41 C
    New Delhi
Travel

अगर आपका सामान एयरलाइंस पर खो गया हो खराब हो गया हो या आपके पास देरी से आया हो तो अपनाये ये टिप्स

( words)

अगर आप आए दिन फ्लाइट से ट्रैवल करते रहते हैं, तो आपको इस बात का शायद अंदाजा होगा कि ऐसी स्थिति में फिर आपके पास जो रह जाता है उसी से पूरा ट्रिप निकालना पड़ता है। ऐसे में क्या कर सकते हैं, ये सवाल हर किसी के मन में आता है , तो हमारी सलाह है कि सबसे पहले तो आप धैर्य रखें और नीचे बताए गए टिप्स को ध्यान में रखें। ये टिप्स आपके खोए हुए सामान को ढूंढने में मदद करेंगे या फिर एयरलाइन द्वारा खो जाने या खराब होने का मुआवजा कैसे प्राप्त कर सकते हैं, इस लेख से जान सकते हैं।

अधिकारियों से संपर्क करें

अगर आपको अपना सामान कन्वेयर बेल्ट में नहीं मिला, तो उसके खोने के बारे में सोचने से पहले कम से कम आधे घंटे का इंतजार जरूर करें। या फिर आपका सामान आपको मिल गया है, लेकिन सही स्थिति में नहीं है या खराब हो गया है, तो तो हवाई अड्डे पर एयरलाइन कर्मचारियों पर चिल्लाकर और उन पर आपके सामान को गलत तरीके से रखने का आरोप लगाकर हंगामा न खड़ा करें। एयरलाइन स्टाफ से तुरंत संपर्क करें और अपने बैग्स के गुम या क्षतिग्रस्त होने की सूचना दें। इस बात का ध्यान रखें कि ऐसी स्थिति में जितना जल्दी हो सके एक्शन लेने की कोशिश करें।

पीआईआर फॉर्म भरें

बैगेज सर्विस में संपत्ति अनियमितता (Property Irregularity form) फॉर्म को भरकर सामान के गुम/क्षतिग्रस्त होने की शिकायत कर सकते हैं। यदि आपका बैग नहीं मिला है, तो आपसे स्टाफ पर्सनल और फ्लाइट डिटेल्स मांगेगा, साथ ही बैग के बारे में और उसमें मौजूद सामान के बारे में भी जानकारी लेगा, जिससे उन्हें आपके सामान को ढूंढने में आसानी हो। आप उनसे ट्रैकिंग नंबर भी ले सकते हैं इससे ऑनलाइन सामान को ट्रैक करने में मदद मिलेगी।

मुआवजे की बात करें

कोई भी एयरलाइन आपके सामान से जुड़ा कोई भी अप्रत्याशित नुकसान या 24 घंटे से अधिक की देरी के लिए जिम्मेदार है। लेकिन, फिर भी वो पूरी तरह से नुकसान की भरपाई नहीं करते हैं। गुम हुए सामान के लिए पर्याप्त मुआवजे का दावा करने के लिए, आपके पास एयरलाइन को लिखने के लिए अपनी यात्रा की तारीख से सात दिन का समय होता है। बैग खराब होने के मामले में एयरलाइंस बैग की मरम्मत/बदलने की सलाह देती है, लेकिन मुआवजे के लिए, आपको कुछ प्रोफेशनल लेवल की बातचीत करने की आवश्यकता होगी।

मुआवजे के लिए क्लेम करें

यदि एयरलाइन 21 दिनों के भीतर आपके सामान का पता लगाने में विफल रहती है तो इसे आधिकारिक तौर पर खोया हुआ माना जाता है। इस मामले में, आपको अपने गुम हुए सामान के लिए अधिकारियों से लिखित रूप से क्लेम प्राप्त करने की आवश्यकता है। अधिकांश एयरलाइंस आपके खोए हुए सामान में अनुचित मूल्य से लेकर मूल खरीद मूल्य तक कुछ भी नकद या ऑनलाइन के रूप में क्षतिपूर्ति करने में सक्षम होती हैं। एयर इंडिया जैसी एयरलाइंस 24 घंटे से अधिक की देरी के लिए 3000 रुपए तक का भुगतान भी करती है।

अन्य टिप्स

सामान के विलंबित, क्षतिग्रस्त या खो जाने के जोखिम को कम करने के लिए इन टिप्स की भी लें मदद -

  • फ्लाइट बुक करने से पहले सामान के ट्रांसपोर्टेशन से जुड़ी जानकारी निकालने की कोशिश करें।
  • कनेक्टिंग फ्लाइट्स से बचें क्योंकि इससे फ्लाइट के बीच में आपका सामान गुम होने का खतरा बढ़ सकता है।
  • जब आप अपना सामान-केस खरीदते हैं तो कुछ ऐसा चुनें जो अन्य लोगों से अलग हो जैसे - बैग का रंग।
  • जब आप एयरपोर्ट और एयरलाइन स्टाफ आपका सामान रजिस्टर करने वाले होते हैं, तो अपने बैग से सभी टैग्स निकाल दें, इससे कन्फ्यूजन बढ़ सकती है।

क्लेम करने के लिए समय सीमा

सामान के खराब, देरी से मिलने और खो जाने के लिए क्लेम करने की समय सीमा अलग-अलग है -

क्षतिग्रस्त सामान - सामान मिलने के बाद 7 दिनों के भीतर

आपके सामान के गुम या क्षतिग्रस्त सामग्री - अपना सामान इकट्ठा करने/प्राप्त करने के बाद दिनों के भीतर

सामान के विलंबित होने पर - फ्लाइट की तारिख तय होने के बाद 21 दिनों तक।

खोया हुआ सामान - जितनी जल्दी हो सके 21 दिन के बेहतर क्लेम करें।

 

You Might Also Like...

Sign Up for Our Newsletter

Subscribe now to get notified about Breaking News
from Live4India!